जागरण संवाददाता, देहरादून: पेट्रोल-डीजल के दाम में केंद्र और प्रदेश सरकार से 2.50-2.50 रुपये यानि कुल पांच रुपये की रियायत की उम्मीद पाले बैठी जनता को शुक्रवार तक आधा ही लाभ मिल पाया। गुरुवार मध्य रात्रि से केंद्र सरकार के हिस्से की छूट तो लोगों को मिलने लगी थी, मगर राज्य के हिस्से की छूट नहीं मिल पाई। शुक्रवार सुबह भी डीलरों ने यह कहकर राज्य के हिस्से की छूट नहीं दी कि उन्हें सरकारी आदेश नहीं मिले हैं। लिहाजा, दिनभर जनता की जेब कटती रही और शाम को राज्य के हिस्से की छूट का जीओ जारी किया जा सका। हालांकि जीओ बैकडेट यानी चार अक्टूबर का ही जारी किया गया है, जिसका फायदा न तो सरकार को मिल पाया और न ही जनता को। इतना जरूर है कि बैकडेट में जारी इस आदेश से वैट की छूट का लाभ पंप संचालकों की जेब में जरूर चला जाएगा।

विलंब से जारी किए गए आदेश का असर यह भी हुआ कि शुक्रवार देर रात तक भी राज्य के हिस्से की छूट लोगों को नहीं मिल पाई। अब पंप संचालक शनिवार सुबह छह बजे से इस छूट को लागू करने की बात कह रहे हैं। जबकि, गुरुवार मध्य रात्रि से ही केंद्र सरकार की ओर से पेट्रोल-डीजल में ढाई रुपये की रियायत लागू कर दी गई थी। शुक्रवार सुबह जब लोगों को उम्मीद के अनुसार छूट नहीं मिली तो प्रदेशभर में पंप कर्मियों के साथ लोगों की कहा-सुनी भी होती रही। हालांकि इसके बाद भी उन्हें आधी रियायत पर ही पेट्रोल या डीजल भरवाना पड़ा।

पेट्रोल महज 1.97 और डीजल 2.43 रुपये सस्ता: पेट्रोल-डीजल में पांच-पांच रुपये की बड़ी रियायत मिलने की आस लगा रही जनता की उम्मीदों को एक और झटका लगा है। पेट्रोल महज 1.97 व डीजल 2.43 रुपये प्रति लीटर ही सस्ता हो पाया। दरअसल, तेल कंपनियों ने गुरुवार मध्यरात्रि से पेट्रोल के दाम में 53 पैसे और डीजल में सात पैसे की बढ़ोत्तरी जारी कर दी थी। इस तरह देहरादून में अकेले केंद्र सरकार की छूट मिलाकर पेट्रोल 81.86 व डीजल 73.45 रुपये प्रति लीटर की दर से बिका। जबकि, गुरुवार को पेट्रोल व डीजल क्रमश: 83.83, 75.97 रुपये के दाम पर मिला था। यानि कि पेट्रोल में महज 1.97 व डीजल में 2.43 रुपये की ही रियायत मिली। आइओसी के मुख्य मंडल प्रबंधक देहरादून (सेल्स) मनोज जयंत का कहना है कि कंपनी को शुक्रवार देर शाम को प्रदेश सरकार का नोटिफिकेशन मिलने की जानकारी है। शनिवार से पेट्रो पदार्थो में प्रदेश सरकार की ओर से दी गई रियायत भी लागू होगी।

--------

शासन ने गुरुवार को ही जीओ जारी कर दिया था, हो सकता है कि इसे प्राप्त होने में विलंब हो गया हो। इतना जरूर है कि वैट में दी गई रियायत चार अक्टूबर से ही प्रभावी मानी जाएगी।

अमित नेगी, सचिव, वित्त (उत्तराखंड सरकार)

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप