राज्य ब्यूरो, देहरादून। अब अटल आयुष्मान योजना के अंतर्गत सूचीबद्ध अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमितों को मुफ्त प्लाज्मा भी चढ़ाया जा सकेगा। अस्पतालों को इसकी प्रतिपूर्ति  राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के जरिये की जाएगी। प्रदेश में इस समय कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में मामले बेहद तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बार कोरोना संक्रमण घातक रूप भी ले रहा है। गंभीर मरीजों की जान बचाने में प्लाज्मा थेरेपी काफी कारगर साबित हो रही है। इस थेरेपी में कोरोना से ठीक होने वाले व्यक्तियों के खून से प्लाज्मा लेकर मरीज को चढ़ाया जाता है। इससे मरीज के ठीक होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। यह प्रक्रिया थोड़ी महंगी है। 

प्रदेश सरकार ने बीते वर्ष अटल आयुष्मान और आयुष्मान भारत योजना से आच्छादित मरीजों के लिए कोरोना का इलाज मुफ्त करने का निर्णय लिया था। इसमें प्लाज्मा चढ़ाने की सुविधा शामिल नहीं थी। अभी अस्पतालों में जो मरीज भर्ती हैं, उन्हें प्लाज्मा चढ़ाने के लिए अस्पताल में अलग से शुल्क देना पड़ रहा है। मरीजों की सुविधा को देखते हुए सरकार ने अब मरीजों को प्लाज्मा देने के लिए दरों का निर्धारण करते हुए इसकी प्रतिपूर्ति अटल आयुष्मान व आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत करने का निर्णय लिया है। सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी द्वारा इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं।

---------------------------

कैबिनेट मंत्री भगत के बयानकी प्रीतम सिंह ने की निंदा

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत के श्मशान घाट को सुविधाओं से लैस करने से संबंधित बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने के बजाय कैबिनेट मंत्री का ऐसा रवैया निंदाजनक है।

एक बयान में उन्होंने कहा कि कोरोना संकट काल में भगत जैसे भाजपा के कद्दावर नेता व कैबिनेट मंत्री को आक्सीजन सिलिंडर, आइसीयू बेड और वेंटिलेटर की व्यवस्था की चिंता करनी चाहिए। कोरोना की वजह से जब परिवार उजड़ रहे हों, ऐसे में भगत का बयान शोभा नहीं देता। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के उद्घाटन व लोकार्पण कार्यक्रमों पर आपत्ति जताते हुए प्रीतम सिंह ने कहा कि मौजूदा वक्त जनता की जान बचाने का है। ऐसे में सरकार को प्रचार और रिबन काटने से बचना चाहिए। इसके लिए आगे मौके मिलते रहेंगे। इस संवेदनशील और नाजुक दौर में सरकार और मुख्यमंत्री को लचर पड़ी व्यवस्थाएं ठीक करने पर ध्यान देना चाहिए।

यह भी पढ़ें-श्रीमहंत इंदिरेश अस्पताल में अब कैंसर रोगियों को भी मिलेगा समुचित उपचार मिलेगा, अस्पताल में कैंसर हुई यूनिट शुरू

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi