देहरादून, जेएनएन। विजय पार्क स्थित निर्माणाधीन बिल्डिंग की चौथी मंजिल से संदिग्ध परिस्थितियों में गिरकर विवाहिता की मौत हो गई। घटना के दौरान उसके दो दोस्त भी बिल्डिंग में मौजूद थे। वसंत विहार पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करते हुए उनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। दोनों से पूछताछ की जा रही है। रात के दो बजे जिस समय घटना की सूचना फ्लैश हुई, उस समय एसएसपी अरुण मोहन जोशी अपने कैंप कार्यालय पर प्रेमनगर लूटकांड को लेकर बैठक कर रहे थे। उन्होंने तत्काल एसपी सिटी व अन्य अधिकारियों को मौके के लिए रवाना किया। 

पुलिस के अनुसार, महिला की पहचान आरती पत्नी श्याम कन्नौजिया निवासी चुक्खूवाला के रूप में हुई। आरती पिछले पांच-छह महीने से पति से अलग अपने मायके श्रीदेव सुमन नगर में रह रही थी। यहां वह अपनी सात-आठ साल की बेटी को भी लेकर आ गई थी। आरती सहारनपुर चौक स्थित एक क्रॉकरी शॉप में नौकरी भी करती थी। जहां उसकी जान-पहचान दीपक चौहान उर्फ अभिषेक निवासी चंदननगर से हुई। दीपक भी क्रॉकरी शॉप में नौकरी करता था। शनिवार की देर शाम दीपक और आरती विक्रम पकड़ कर बल्लूपुर पहुंचे।

बल्लूपुर में दीपक ने ठेके से शराब खरीद कर पी, जबकि आरती ने बीयर ली। यहां से दोनों ई-रिक्शा पकड़ कर रात करीब पौने 11 बजे श्रीदेव सुमननगर पहुंचे। यहां दीपक आरती को उसके मायके में छोडऩे गया था। आरती के माता-पिता ने जब दरवाजा खोला तो उसकी हालत देख कर बिफर पड़े। इससे नाराज होकर आरती दीपक के साथ लौट गई। इसके बाद दोनों टहलते हुए विजय पार्क में हरियाणा डेयरी की निर्माणाधीन बिल्डिंग में पहुंचे। दोनों बिल्डिंग की चौथी  मंजिल पर चले गए।

उस समय बिल्डिंग का चौकीदार सो रहा था। थोड़ी देर बाद आरती ने फिर से बीयर की मांग की तो दीपक ने लाने से मना कर दिया। इस पर क्रॉकरी शॉप में दो-ढाई महीने पहले ही काम पर आए दुर्गेश उर्फ सनी निवासी बलवीर रोड को आरती ने फोन किया और बीयर लेकर आने को कहा। दुर्गेश थोड़ी देर बाद बीयर लेकर आया और वह भी दोनों के पास पहुंच गया। पुलिस के अनुसार आरती ने बीयर पी।

आरती के इस तरह से दुर्गेश को बुलाने पर दीपक को काफी बुरा लगा। उसने आरती और दुर्गेश पर खीझ उतारनी शुरू कर दी। आरोप है कि दीपक और दुर्गेश में आरती को लेकर काफी देर तक बहस हुई। इस बीच आरती ने कहा कि उसे न तो दीपक के साथ रहना है और न ही दुर्गेश के साथ। वह अपने पति के ही साथ रहेगी। दोनों यहां से चले जाएं। दीपक और दुर्गेश से पूछताछ में सामने आए घटनाक्रम के अनुसार इस दौरान आरती काफी नशे में थी और वह बिल्डिंग से नीचे उतरते समय अंधेरा होने की वजह से सीढ़ी और लिफ्ट के लिए बने होल को देख नहीं पाई और सीधा उसमें गिर गई। सीधा नीचे गिरने से आरती की मौके पर ही मौत हो गई। 

पुलिस की मुस्तैदी से पकड़े गए दोनों

दीपक और दुर्गेश दोनों भागने में कामयाब हो जाते, अगर पुलिस मौके पर दो-चार मिनट की भी देरी से पहुंचती। ऐसे में पुलिस के लिए आरती की मौत का कारण पता करने में घंटों मशक्कत करनी पड़ती। दरअसल, शनिवार की रात करीब 12 बजे वसंत विहार पुलिस की टीम गश्त पर निकली थी। विजय पार्क में निर्माणाधीन बिल्डिंग के नीचे लाल रंग की बाइक खड़ी देख टीम को कुछ अटपटा लगा। पुलिस ने हूटर बजाते हुए आवाज लगाई कि यह बाइक किसकी है। इस बीच बिल्डिंग के चौकीदार की नींद खुली तो वह पुलिस के पास आया। पुलिस चौकीदार को लेकर बिल्डिंग की छत पर गई।

इस दौरान दीपक और दुर्गेश अंधेरे में कहीं दुबक गए। टार्च की रोशनी में पुलिस ने जब बिल्डिंग का कोना-कोना छाना तो लिफ्ट के होल में एक युवती गिरी दिखाई। पुलिस नीचे उतरकर युवती के पास पहुंची तो देखा कि वह ईंटों पर गिरी है, उसके सिर से खून बह रहा था। टीम ने थाने को सूचना दी, जिसके बाद और फोर्स मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने अपनी गाड़ी से आरती को दून मेडिकल कॉलेज भेजा, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। सूचना पर एसपी सिटी श्वेता चौबे भी मौके पर पहुंच गईं। इसके बाद बिल्डिंग को फिर से सर्च किया तो वहां कोने में दुबककर बैठे दीपक और दुर्गेश को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। 

यह भी पढ़ें: आंगन में मिला युवक का शव, पास पड़ी थी खून से सनी ईंट; पत्नी पर हत्या का आरोप

एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि घटना के सभी पहलू की बारीकी से छानबीन की जा रही है। दीपक और दुर्गेश से पूछताछ के बाद आरती के मायके पक्ष और उसके पति के भी बयान लिए गए हैं। आरती के पिता की तहरीर पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अब विवेचना में जो तथ्य सामने आएंगे, उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 यह भी पढ़ें: सीआरपीएफ जवान व पत्नी की संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप