जागरण संवाददाता, देहरादून : आयुर्वेद विवि से संबद्ध निजी आयुष कॉलेजों की मनमानी के विरोध में छात्र-छात्राओं का आदोलन जारी है। विभिन्न आयुष कॉलेजों में बीएएमएस व बीएमएस का कोर्स कर रहे छात्र-छात्राओं ने पहले नौ दिन तक हर्रावाला स्थित विवि के गेट पर धरना-प्रदर्शन किया। इसके बाद छात्र पिछले आठ दिन से परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर मागों के समर्थन में आवाज बुलंद कर रहे हैं। मेडिकल के छात्र अजय का अनशन जारी रहा। जबकि अनशन पर बैठीं छात्रा प्रगति जोशी की तबियत खराब होने पर तीन दिन पहले उसको अस्पताल में भर्ती किया गया था।

इधर, शुक्रवार को आदोलित छात्र-छात्राओं ने केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशक, आयुष मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत, बाबा रामदेव व प्राइवेट आयुर्वेद कॉलेज एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. अश्विनी काबोज का पुतला दहन भी किया। काग्रेस का समर्थन भी आयुष कॉलेजों के छात्रों को मिला है। गुरुवार को काग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व अन्य काग्रेसी धरना स्थल पर पहुंचे और छात्रों के आदोलन को समर्थन दिया। उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में छात्रों का अहित नहीं होने दिया जायेगा। यदि सरकार जल्द ही निजी आयुष कॉलेजों की मनमानी पर रोक लगाने के लिए ठोस कदम नहीं उठाती है तो काग्रेस भी छात्र-छात्राओं के साथ सड़कों पर उतरकर आदोलन करेगी। कहा कि राज्य सरकार उन आयुष कॉलेजों के पक्ष में खड़ी है जो कि न्यायालय के आदेशों की अवहेलना कर रहे हैं। बढ़ा हुआ शुल्क जमा करने को लेकर न सिर्फ छात्रों पर दवाब बनाया जा रहा है, बल्कि उनका मानसिक उत्पीड़न भी किया जा रहा है।

वहीं आदोलित छात्रों में इस बात को लेकर भी नाराजगी है कि आदोलन के 18 दिन बाद भी सरकार व शासन स्तर से उनकी सुध लेने के लिए कोई नहीं पहुंचा है। अनशन पर बैठे छात्र के स्वास्थ्य की जाच के लिए चिकित्सकों की टीम भी नहीं पहुंच रही है। इससे जाहिर होता है कि शासन-प्रशासन को छात्रों के भविष्य की कोई फिक्र नहीं है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप