मुआवजा न मिलने से नाराज ग्रामीणों से मिले लोनिवि के अधिकारी

संवाद सूत्र, साहिया : लोनिवि के अधिशासी अभियंता मंगलवार को राजस्व अधिकारियों के साथ बड़नू गांव पहुंचे और मुआवजा न मिलने असंतुष्ट ग्रामीणों की नाराजगी दूर की। दरअसल मुआवजे की मांग कर रहे बड़नू गांव के लोग मार्ग पर पड़े मलबा हटाने के लिए जेसीबी को काम करने नहीं दे रहे थे। रास्ता बंद होने की वजह से ऊर्जा निगम की टीम पांच दिन से ठप पड़ी गढैता गांव की बिजली भी ठीक नहीं कर पा रही थी। विवाद दूर होने के बाद अब जल्द ही गढैता गांव की बिजली सुधरने की उम्मीद जगी है।

बड़नू गांव के लोग बड़नू-गढैता मोटर मार्ग पर 10 जुलाई को हुई तेज वर्षा से आए मलबे को नहीं हटाने दे रहे थे। वर्षा से गढैता गांव की लाइन भी टूट गई थी। बड़नू के लोग मांग कर रहे थे कि मलबे से जो खेतों व फसलों का नुकसान हुआ है, पहले उसका मुआवजा दिया जाए। तब तक जेसीबी नहीं लगने देंगे। मार्ग बंद होने की वजह से ऊर्जा निगम भी अपना सामान नहीं ले जा पा रहा था। जिस कारण लाइन क्षतिग्रस्त होने से पांच दिन से गढैता गांव में अंधेरा है। विवाद को सुलझाने के लिए लोनिवि साहिया के अधिशासी अभियंता प्रत्युष कुमार अपनी व तहसील टीम के साथ बड़नू गांव पहुंचे और नाराज ग्रामीणों के साथ बैठक की। ग्रामीणों को अधिशासी अभियंता ने बताया कि मुआवजे की फाइल शासन को भेजी गई है। जैसे ही शासन से मुआवजा स्वीकृत हो जाएगा तो जल्द ही सभी को मुआवजा दिया जाएगा। आश्वासन को लिखित रूप में देने पर ग्रामीण राजी हो गए।

बैठक में ग्राम पंचायत बड़नू प्रधान कांति चौहान, नायब तहसीलदार प्रेम सिंह, राजस्व उपनिरीक्षक प्यारे राम शर्मा, सियाराम चौहान, अजब सिंह, माया सिंह, सीताराम, पूरन सिंह आदि मौजूद रहे। उधर, ऊर्जा निगम के सहायक अभियंता अशोक कुमार का कहना है कि सड़क से मलबा हटते ही सामान को गढैता पहुंचाकर टूटी बिजली लाइन को ठीक कराकर आपूर्ति सुचारू कराई जाएगी।

Edited By: Jagran