देहरादून, [जेएनएन]: निकाय चुनाव में ईवीएम से वोटिंग कराने के दावे फिर खोखले साबित हुए। तकनीकी दिक्कतें और अपर्याप्त मशीनों के चलते राज्य निर्वाचन आयोग ने इस बार भी निकाय चुनाव बैलेट पेपर से कराने का निर्णय लिया है। 

राज्य निर्वाचन आयोग के पूर्व आयुक्त ने दावे किए थे कि निकाय चुनाव ईवीएम से कराए जाएंगे। इसे लेकर तैयारियां भी की जा रही थीं। सूत्रों का कहना है कि राज्य में निकाय चुनाव के लिए करीब 15 हजार नई ईवीएम की जरूरत थी। मगर, राज्य में इनकी संख्या बहुत कम है। इसके लिए हरियाणा और उप्र से ईवीएम मांगने की बात की गई। लेकिन वहां भी पुरानी मशीनें होने के चलते बात नहीं बन पाई। 

इसके अलावा ईवीएम में अध्यक्ष और पार्षद प्रत्याशी को लेकर दिक्कतें आ रही थी। इसके लिए दो मशीनों तथा एक ही मशीन में पार्टी महापौर, अध्यक्ष और पार्षद तथा निर्दलीयों का भी विकल्प रखा गया। लेकिन इस तकनीक से चुनाव कराना समय पर संभव नहीं था। ऐसे में आयोग ने फिलहाल ईवीएम से निकाय चुनाव में वोटिंग और काउंटिंग कराने की योजना स्थगित कर दी  है। 

राज्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रशेखर भट्ट ने बताया कि तकनीकी दिक्कतें और मशीनों की कमी के चलते ईवीएम से चुनाव कराना संभव नहीं था। ऐसे में इस बार का चुनाव बैलेट पेपर पर ही कराए जाएंगे। 

यह भी पढ़ें: निकाय चुनाव पर फिर फंस सकता है पेंच, निवर्तमान मेयर ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा

यह भी पढ़ें: सियासी जमीन पर फिर रिकार्ड बनाने की भाजपा के लिए चुनौती

Posted By: Raksha Panthari