Move to Jagran APP

IMA POP: भारतीय सेना को मिले 355 युवा अफसर, मित्र देशों के 39 कैडेट भी हुए पास आउट

IMA POP आज भारतीय सेना को 355 युवा अधिकारी मिले। वहीं मित्र देशों के 39 कैडेट भी पास आउट हुए। भारतीय सेना की उत्तरी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिंद्र कुमार बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड का निरीक्षण कर पास आउट हो रहे आफिसर कैडेट से सलामी ली। सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 65 हजार 628 युवा सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ गया।

By Sukant mamgain Edited By: Nirmala Bohra Sat, 08 Jun 2024 09:54 AM (IST)
IMA POP: आज भारतीय सेना को 355 युवा अधिकारी मिले

जागरण संवाददाता, देहरादून: IMA POP: भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) की पासिंग आउट परेड।शनिवार सुबह मार्क्स कॉल के साथ शुरू हुई परेड। भारतीय सेना को मिले 355 युवा अधिकारी, जबकि मित्र देशों के 39 कैडेट भी हुए पास आउट।

परेड के निरीक्षण अधिकारी उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचेंद्र कुमार ने ली परेड की सलामी।

निरीक्षण अधिकारी ने अंतरिक्ष, साइबर और सूचना क्षेत्रों में तकनीकी प्रगति के बीच युद्ध की तेजी से बदलती प्रकृति पर प्रकाश डाला। उन्होंने जटिल और प्रतिस्पर्धी युद्धक्षेत्रों में प्रभावी ढंग से काम करने के लिए तकनीकी दक्षताओं को बढ़ाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

भारतीय थलसेना को मिले 355 युवा सैन्य अधिकारी

परेड के उपरांत आयोजित होने वाली पीपिंग व ओथ सेरेमनी के बाद 154वें रेगुलर कोर्स और 137वें टेक्नीकल ग्रेजुएट कोर्स के कुल 394 आफिसर कैडेट बतौर लेफ्टिनेंट देश-विदेश की सेना की मुख्यधारा में शामिल हो गए। इनमें 355 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले। जबकि 39 युवा सैन्य अधिकारी मित्र देशों की सेना का अभिन्न अंग बने।

कुल मिलाकर शनिवार को सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 65 हजार 628 युवा सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ गया। इनमें मित्र देशों को मिले 2,953 सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं।

इन्हें मिला अवार्ड

  • स्वार्ड आफ आनर- प्रवीण सिंह
  • स्वर्ण पदक - प्रवीण सिंह
  • रजत पदक- मोहित कापड़ी
  • रजत पदक टीजी - विनय भंडारी
  • कांस्य पद- शौर्य भट्ट
  • चीफ आफ आर्मी स्टाफ बैनर-कोहिमा कंपनी

परदेश से आए मेहमान, रिश्तों की मजबूत डोर ने अपना बना दिया

जब सात समुंदर पार से आए तब जरा भी अंदाजा नहीं था कि भारत में ऐसा स्नेह, प्यार और अपनत्व मिलेगा। भारत के बारे में खूब पढ़ा था, सुना था लेकिन जब यहां रहने का मौका मिला तो खुद देख भी लिया। भारत हर किसी को अपनाता है। यहां कुछ दिन रहो तो यही अपना घर लगने लगता है। ये बातें विदेशी कैडेट्स ने भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में आयोजित पासिंग आउट परेड के दौरान कही।

आइएमए से 39 विदेशी कैडेट्स पासआउट हुए हैं। अब उन्हें अपने-अपने देश की सेना में अफसर बनने का मौका मिलने जा रहा है। परेड में अंतिम पग भरते ही मित्र देशों के इन कैडेट्स की खुशी सातवें आसमान पर थी। भारत में प्रशिक्षण के दौरान बिताए पलों को कभी न भूलने की बात करते हुए वे भारतीय कैडेट्स के गले लगे तो उनकी भावनाएं आंखों से छलक उठीं।

विदेशी कैडेट्स ने कहा कि प्रशिक्षण पूरा हुआ और अब वह अपने-अपने देश की सेवा के लिए तैयार हैं। उन्होंने अपने देश को गौरवान्वित करने और आइएमए का नाम रोशन करने का संकल्प भी लिया। यह भी कहा कि आइएमए से प्रशिक्षण प्राप्त करना उनके लिए गर्व की बात है।

ब्रिटिश शासन काल में भारत से सेशेल्स गए थे दादा

अफ्रीकी महाद्वीप के एक छोटे से देश सेशेल्स के अनिल बुरोन आइएमए से पासआउट होकर अफसर बने हैं। उन्होंने पासिंग आउट परेड के बाद अपने भारतीय मित्रों के साथ खुशी मनाई। अनिल बुरोन ने कहा कि उनके छोटे से देश में सीमित संसाधन हैं, लेकिन भारत की ओर से पूरा सहयोग मिलता है।

वह सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें भारतीय सैन्य अकादमी में प्रशिक्षण लेने करने का अवसर मिला है। उनका देश वर्ष 1976 में ब्रिटिश साम्राज्य से आजाद हुआ। उनका परिवार काफी सालों से सेशेल्स में रहता है। उनके परदादा भारतीय थे। ब्रिटिश शासन काल में वह भारत से सेशेल्स गए थे।

अब ड्रग माफिया के चंगुल से अपने देश के छुड़ाना है

उत्तरी अमेरिकी महाद्वीप में स्थित देश जमैका के देवांटे हाल भी आइएमए से पास आउट हुए हैं। देवांटे हाल ने कहा कि उनके देश का किसी अन्य देश के साथ कोई तनाव नहीं है। न ही कभी युद्ध के हालात बनते हैं, लेकिन देश में ड्रग माफिया और हथियार माफिया का आतंक है। उन्हें इन्हीं समस्याओं से निपटना है। आइएमए से प्रशिक्षण मिलने के बाद देवांटे अपने देश से ड्रग माफिया की जड़ें उखाड़ना चाहते हैं। प्रशिक्षण के दौरान देवांटे भारतीय खाने के दीवाने हो गए। उन्होंने कहा कि उन्हें भारतीय बिरयानी का स्वाद हमेशा याद रहेगा। उन्होंने बताया कि एक और जमैकी जवान पासआउट हुए हैं, जबकि दो कैडेट आगामी सत्र में पासआउट होंगे।