जागरण संवाददाता, देहरादून : IGNOU Course : इंदिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने पशु प्रेमियों के लिए एक अनूठा कार्यक्रम आरंभ किया है। इग्नू ने स्काटलैंड के एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के सहयोग से ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग मोड में पशु कल्याण में स्नातकोत्तर डिप्लोमा (पीजीडीएडब्ल्यू) का पाठ्यक्रम तैयार किया है। इस पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए 31 जुलाई तक आवेदन किए जा सकते हैं।

यह कार्यक्रम भारतीय पशु कल्याण बोर्ड की ओर से अनुमोदित

इग्नू के वरिष्ठ क्षेत्रीय निदेशक डा.अनिल कुमार डिमरी ने बताया कि यह कार्यक्रम भारतीय पशु कल्याण बोर्ड की ओर से अनुमोदित है। इस कार्यक्रम की अध्ययन सामग्री एडिनबर्ग विवि के सहयोग से विकसित की गई है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य मुक्त और दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से विज्ञान आधारित पशु कल्याण शिक्षा प्रदान करना है।

प्रवेश लेने के लिए शिक्षार्थी को किसी भी विषय में स्नातक होना चाहिए

साथ ही पशु कल्याण से संबंधित सामाजिक रूप से जिम्मेदारी पूर्ण निर्णय लेने की क्षमता विकसित करना है। पीजीडीएडब्ल्यू कार्यक्रम में सभी प्रबंधित जानवरों के कल्याण विज्ञान, नैतिकता, कानून और मानक को शामिल किया गया है। इस कार्यक्रम में जिन जानवरों का अध्ययन किया जाएगा।

उनमें, भैंस, भेड़, बकरी, सूअर, मुर्गी आदि शामिल हैं। इनके अलावा काम करने वाले, प्रदर्शन करने वाले, पालतू, चिडिय़ाघर और प्रयोगशाला के जानवर भी कार्यक्रम में शामिल हैं। यह एक साल का कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए शिक्षार्थी को किसी भी विषय में स्नातक होना चाहिए।

यह कार्यक्रम विभिन्न प्रकार के लोगों के लिए प्रासंगिक

इग्नू के सहायक क्षेत्रीय निदेशक डा. जगदंबा प्रसाद ने बताया कि यह कार्यक्रम विभिन्न प्रकार के लोगों के लिए प्रासंगिक है। जिसमें पशु चिकित्सक, पैरा-पशु चिकित्सक, पशु गृह सुविधाओं के सदस्य, संकाय सदस्य, तकनीकी कर्मचारी, राज्य पशु कल्याण बोर्ड के सदस्य, वन विभाग, चिडिय़ाघरों में कार्यरत अधिकारी और शोधकर्ता शामिल हैं। इनके अलावा यह कार्यक्रम पशु प्रेमियों, स्वयंसेवकों और पशु कल्याण कानूनों के लिए काम करने वाले कानूनी पेशेवरों के लिए उपयोगी होगा। इस कार्यक्रम में प्रवेश लेने के इच्छुक व्यक्ति इग्नू की वेबसाइट पर आवेदन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-  IGNOU ने स्मार्ट सिटी विकास एवं प्रबंधन में शुरू किए 16 नए कार्यक्रम, पंजीकरण की अंतिम तिथि 15 जुलाई तक बढ़ाई

Edited By: Nirmala Bohra