जागरण संवाददाता, देहरादून। Dehradun Crime News दून में नशा तस्कर पुलिस की नाक में दम कर रहे हैं। चरस-गांजा और स्मैक के साथ पुलिस लगातार तस्करों को दबोच रही है, लेकिन इसके बावजूद शहर में नशे के कारोबार पर नकेल नहीं लग पा रही है। पुलिस ने नेहरू कालोनी में 14.45 ग्राम, डालनवाला में 8.10 ग्राम और नगर कोतवाली क्षेत्र में 5.88 ग्राम स्मैक पकड़ी। जबकि, चार आरोपितों को गिरफ्तार किया गया।

नेहरू कालोनी थाना पुलिस ने वाहनों की चेकिंग के दौरान डिफेंस कालोनी क्षेत्र से एक आरोपित को 14.45 ग्राम स्मैक के साथ गिरफ्तार किया। आरोपित की पहचान राहिल निवासी अजबपुर खुर्द नियर लेबर कोर्ट के रूप में हुई। आरोपित के खिलाफ थाना नेहरू कालोनी में एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर दिया गया है। आरोपित ने बताया कि वह अन्य शहरों से सस्ते दाम पर स्मैक लाकर यहां स्कूल-कालेज के छात्रों को बेचता था।

डालनवाला थाना पुलिस ने कान्वेंट रोड स्थित मजार के पास से सागर सिंह निवासी राजपुर रोड को छह ग्राम स्मैक और देशराज निवासी ग्राम नसीरपुर बिजनौर को 2.1 ग्राम स्मैक के साथ गिरफ्तार किया गया। नगर कोतवाली पुलिस ने खुड़बुड़ा मोहल्ले के पास संदिग्धों की चेकिंग की। इस दौरान एक व्यक्ति से 5.88 ग्राम स्मैक बरामद हुई। आरोपित की पहचान राहुल कुमार निवासी खुड़बुड़ा मोहल्ला के रूप में हुई। उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

------------------------------------ 

अवैध प्लाटिंग ध्वस्त की, टावर सील

मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण (एमडीडीए) ने अवैध निर्माण पर कार्रवाई करते हुए विकासनगर स्थित नवाबगढ़ में अवैध प्लाटिंग को ध्वस्त कर दिया। इसका लेआउट पास नहीं कराया गया था और बिक्री के लिए प्लाट काटे जा रहे थे। इसके अलावा एमडीडीए की टीम ने विकासनगर में ही कैनाल रोड पर बिना लेआउट पास कराए खड़े किए गए मोबाइल टावर को सील कर दिया। कार्रवाई करने वाली टीम में सहायक अभियंता एमके जोशी, अवर अभियंता संजय जगूड़ी, अमरलाल, मायाराम आदि शामिल रहे। उधर, तेलपुरा चौक पर सड़क पर अतिक्रमण करने, बिजली के तार को दुकानों के भीतर से गुजारने व बिना मानचित्र स्वीकृति के मामले में संबंधित दुकानों को सील नहीं किया जा सका। एमडीडीए अधिकारियों के मुताबिक पटेलनगर कोतवाली से पुलिस बल न मिल पाने के चलते कार्रवाई को ऐन वक्त पर स्थगित कर दिया गया।

यह भी पढ़ें:- देहरादून: समाज कल्याण सहायक निदेशक एनके शर्मा पर मुकदमे का आदेश, जानिए वजह

Edited By: Sunil Negi