राज्य ब्यूरो, देहरादून। कांग्रेस महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पंजाब में पार्टी के प्रदेश प्रभारी का दायित्व छोड़ने की इच्छा जताई है। इसके लिए वह पार्टी नेतृत्व से भी अनुरोध करेंगे। उनका कहना है कि जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वह पंजाब व उत्तराखंड, दोनों जगह समय नहीं दे पाएंगे।

आने वाले विधानसभा चुनाव में प्रदेश कांग्रेस ने हरीश रावत को चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष का दायित्व सौंपा है। अब चुनाव में थोड़ा ही समय शेष रह गया है। ऐसे में हरीश रावत अब अधिक से अधिक समय उत्तराखंड को ही देना चाह रहे हैं। बुधवार को इंटरनेट मीडिया में हरीश रावत ने इस संबंध में एक पोस्ट लिखी। इसमें उन्होंने कहा कि एक तरफ जन्मभूमि के लिए उनका कर्तव्य है और दूसरी तरह कर्म भूमि पंजाब के लिए उनकी सेवाएं हैं। स्थिति जटिल होती जा रही है।

बीते रोज उत्तराखंड में भारी बारिश ने जो कहर बरपाया है, वह कुछ ही स्थानों पर जा पाए। वह हर जगह जाना चाहते थे। बकौल रावत, उनका कत्र्तव्य अब उन्हें पुकार रहा है। उनसे अब कई अपेक्षाएं हैं। वह जन्मभूमि से न्याय करेंगे, तभी वह कर्मभूमि से भी न्याय कर पाएंगे। रावत ने कहा कि वह पंजाब कांग्रेस के बहुत आभारी हैं, जिसने उन्हें निरंतर आशीर्वाद व समर्थन दिया। संतों व गुरुओं की भूमि से उनका गहरा भावनात्मक लगाव है। उन्होंने निश्चय किया है कि वह अगले कुछ महीनों के लिए उत्तराखंड के प्रति पूर्ण रूप से समर्पित रहेंगे। इसके लिए वह नेतृत्व से अनुरोध करेंगे कि पंजाब में जो उनका वर्तमान दायित्व है, उससे उन्हें मुक्त किया जाए।

-------------------------- 

सरकार ने स्थगित की शहीद सम्मान यात्रा स्थगित

प्रदेश सरकार ने सैन्यधाम बनाने के लिए शहीदों के घर से मिट्टी लाने के लिए शुरू की जाने वाली शहीद सम्मान यात्रा को स्थगित कर दिया है। प्रदेश में आई प्राकृतिक आपदा के दृष्टिगत यह निर्णय लिया गया है। अब यात्रा की तिथि बाद में घोषित की जाएगी। प्रदेश सरकार ने चमोली के सवाड़ गांव से गुरुवार और पिथौरागढ़ के मूनाकोट ब्लाक से 24 अक्टूबर को शहीद सम्मान यात्रा शुरू करने का निर्णय लिया था। सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने इसके लिए दोनों स्थानों पर पहुंचकर तैयारियों का जायजा भी लिया। प्रदेश में भारी बारिश के कारण हुए नुकसान को देखते हुए अब इस यात्रा को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।

यह भी पढ़ें:- Uttarakhand Politics: उत्तराखंड में महिलाओं को ज्यादा टिकट देने का कांग्रेस पर दबाव

Edited By: Sunil Negi