जागरण संवाददाता, ऋषिकेश:

देहरादून वन प्रभाग की ऋषिकेश रेंज के अंतर्गत लालपानी बीट मनसा देवी में वन भूमि पर अतिक्रमण की समस्या नासूर बनती जा रही है। हालत यह है कि डीएफओ के निर्देश के बावजूद क्षेत्र के वन दारोगा कार्रवाई के नाम पर रस्म अदायगी कर रहे हैं। ऐसा ही मामला बुधवार को सामने आया। जहां कार्रवाई करनी थी वहां न जाकर टीम ने आबादी के बीच अतिक्रमण पर कार्रवाई कर फोटो और वीडियोग्राफी अधिकारियों को भेज दी। अब डीएफओ ने इस मामले में नए सिरे से जांच और कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

मनसा देवी दूधुपानी के समीप लालपानी पीठ गुर्जर प्लाट के समीप करीब 14 बीघा भूमि पर माफिया की दृष्टि जमाए हैं। आसपास क्षेत्र की जमीन बेची जा चुकी है। पिछले कई वर्षों से चारागाह के रूप में प्रयोग होने वाली इस भूमि को खुर्दबुर्द करने की कोशिश होती रही। वन विभाग कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति करता रहा। अखिल भारतीय अनुसूचित जाति युवजन समाज की ओर से जिला अध्यक्ष ब्रह्मचंद वाल्मीकि ने बीते रोज डीएफओ को पत्र भेजकर मामले की शिकायत की थी। जिसमें उन्होंने वन भूमि पर अवैध रूप से भवनों का निर्माण रोके जाने की मांग की थी। मामला डीएफओ तक पहुंचा। क्षेत्र के वन दारोगा ने स्वयं को कर्तव्य परायण साबित करने के लिए सुबह-सुबह जाकर अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति शुरू कर दी। आबादी के बीच हो रहे हैं छोटे से निर्माण की कुछ ईटों पर हथौड़े चलाने के बाद इसकी वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराई गई और उच्चाधिकारियों को भेज दी गई। जिसमें बता दिया गया कि अतिक्रमण तोड़ दिया गया है, हकीकत में ऐसा नहीं हुआ। जिस स्थान की शिकायत की गई थी, वहां तक जाने की जहमत टीम ने नहीं उठाई।

रेंज अधिकारी ललित मोहन सिंह नेगी ने बताया कि संबंधित मामले की शिकायत मिलने पर क्षेत्र के वन दारोगा मंसाराम गौड़ को मौके पर भेजा गया था। उन्होंने क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने की रिपोर्ट भेजी है। हकीकत में क्या कार्रवाई हुई है इसकी भी पड़ताल की जा रही है। पूरे क्षेत्र में एक सिरे से वन भूमि का अतिक्रमण हटाया जाएगा।

Edited By: Jagran