जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Weather Update: उत्तराखंड में मानसून की विदाई के बाद से मौसम शुष्क हो गया है। दोपहर में चटख धूप से मैदानों में अक्टूबर में भी जून का एहसास हो रहा है। शुक्रवार को अधिकतर शहरों का तापमान सामान्य से चार-पांच डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया। हालांकि, रात को तापमान में लगातार गिरावट आ रही है। उधर, मौसम विभाग ने रविवार और सोमवार को प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

शुक्रवार को दून समेत ज्यादातर शहरों का तापमान बढ़ा रहा। दून का अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 34.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। जबकि ऊधमसिंहनगर का अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री अधिक 35.5 डिग्री सेल्सियस रहा। इसके अलावा अन्य शहरों में भी यही स्थिति रही। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार रविवार और सोमवार को प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। साथ ही मैदानी इलाकों में ओलावृष्टि व अंधड़ की भी आशंका है। इसको लेकर आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वहीं, चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में 3500 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में हल्का हिमपात भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें:- Uttarakhand Weather Update: पाकिस्तान से सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ से उत्‍तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, जानें- मौसम का ताजा अपडेट

--------------

गुलाल उड़ाकर किया दुर्गा की मूर्ति विसर्जित

उत्तरकाशी में नवदुर्गा उपासना समिति की ओर से हनुमान मंदिर परिसर में आयोजित दुर्गा पूजन में सुहागिन महिलाओं ने एक दूसरे को सिंदूर और गुलाल लगाकर मां दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन किया। नवदुर्गा उपासना समिति के अध्यक्ष उदय शर्मा ने बताया कि समिति की ओर से बीते 23 वर्षों से इसका आयोजन किया जा रहा है। इस बार भी नवरात्र के अवसर पर नौ दिनों तक हनुमान मंदिर परिसर में मां दुर्गा का पंडाल लगाया गया। पंडाल में स्थापित मां दुर्गा, सरस्वती, लक्ष्मी, ब्रह्मा, गणेश, कार्तिकेय आदि देवी-देवताओं की मूर्तियों की श्रद्धालुओं ने नौ दिन तक पूजा-अर्चना की। इन नौ दिनों तक मंदिर परिसर माता के भजनों से गूंजायमान रहा। इस समिति संरक्षक सुरेशचंद सोनी, प्रह्लाद सिंह, पंडित शिव प्रसाद भट्ट, वीके मिश्रा, अनिल कुमार मौर्य, अजय सिंह, शंभू प्रसाद, चंद्रशेखर भट्ट, चैतराम भट्ट, आशीष प्रसाद गुप्ता, अरविंद कनौजिया, पुन्नीलाल यादव आदि शामिल थे।

Edited By: Sunil Negi