जागरण संवाददाता, रुड़की: मानसून का आगमन होने के साथ ही झमाझम वर्षा शुरू हो गई है। वहीं मौसम का मिजाज बदलने से तापमान में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। पिछले दिनों तक जहां शहर का अधिकतम तापमान 40 डिग्री के पार पहुंच गया था, वहीं गुरुवार को तेज वर्षा के बाद लुढ़ककर 26 डिग्री सेल्सियस पर आ गिरा।

डाक्‍टरों ने दी स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखने की सलाह

जबकि, शुक्रवार को 6.5 डिग्री की छलांग लगाकर 32.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। ऐसे में तापमान में उतार-चढ़ाव को लेकर चिकित्सक नागरिकों को स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखने की सलाह दे रहे हैं।

वर्षाकाल शुरू होने से शहरवासियों को आग उगलती गर्मी से राहत मिल गई है। वहीं मौसम के करवट लेने से तापमान में उतार-चढ़ाव हो रहा है। इसकी वजह से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है।

मानसून आने से मौसम में आया बदलाव

वहीं सिविल अस्पताल में इस समय सर्दी-जुकाम, वायरल, डायरिया, गले में दर्द आदि मौसमी बीमारियों के मरीज उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। सिविल अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर एके मिश्रा के अनुसार मानसून आने से मौसम में बदलाव आ गया है।

क्योंकि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बड़ों की तुलना में कम होती है। इसलिए इस मौसम में बच्चों के स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखने की आवश्यकता है। बताया कि अभिभावक बच्चों के खान-पान का खास ख्याल रखें। बच्चों को वर्षा में भींगने नहीं दें, उन्हें फास्ट फूड नहीं दें।

सिविल अस्पताल रोजाना पहुंच रहे 100 मरीज

सिविल अस्पताल के डाक्टर नीतिश कुमार ने बताया कि इस समय रोजाना लगभग 100 मरीज ओपीडी में उपचार के लिए आ रहे हैं। बताया कि मौसम में बदलाव होने के चलते इस समय अधिक सावधानी रखने की आवश्यकता है।

इन बातों का रखें विशेष ध्यान

  •  वर्षा में भींगने से बचें।
  • फास्ट फूड का सेवन न करें।
  • बासी खाने से परहेज करें।
  • साफ पानी पीएं।
  • तेज धूप से आने के बाद एसी व कूलर की हवा में न बैठें।

Edited By: Sunil Negi