जागरण संवाददाता, देहरादून : Dehradun Crime : प्रेमनगर स्थित बिधौली में वाहन खड़ा करने को लेकर एक व्यक्ति का ग्रामीणों से विवाद हो गया। आरोप है कि व्यक्ति ने ग्रामीणों को डराने के लिए अपनी लाइसेंसी पिस्तौल निकाल ली।

इससे गुस्साए ग्रामीणों ने पिस्तौल छीनकर उसे बुरी तरह पीट दिया। प्रेमनगर थाना पुलिस ने दोनों पक्षों को थाने ले आई। देर रात तक दोनों पक्ष थाने में डटे थे और एक-दूसरे के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे थे।

हरियाणा के रहने वाले हैं मनोज पंडित

प्रेमनगर थानाध्यक्ष दीपक रावत ने बताया कि मूल रूप से हरियाणा के रहने वाले मनोज पंडित बिधौली में हास्टल चलाते हैं। गुरुवार शाम करीब सात बजे वह बिधौली की तरफ जा रहे थे। रास्ते में किसी व्यक्ति ने सड़क के बीच बाइक खड़ी की हुई थी। इसको लेकर मनोज और उस व्यक्ति में कहासुनी हो गई।

इस बीच क्षेत्र का एक अन्य व्यक्ति भी वहां पहुंच गया। उससे मनोज की हाथापाई हो गई। इसी बीच मोटरसाइकिल चालक वहां से चला गया। कुछ देर में गांव के अन्य लोग भी मौके पर जमा हो गए। आरोप है कि तब तक मनोज ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल निकाल ली, जिसे भीड़ ने छीन लिया और उसे जमकर पीटा।

गोली चलाने वाले सिरफिरे दामाद समेत दो आरोपित तमंचे के साथ गिरफ्तार

विकासनगर में कोतवाली के अंतर्गत बाबूगढ़ में ससुरालियों पर तमंचे से गोली चलाकर हत्या का प्रयास करने के आरोपित सिरफिरे दामाद समेत दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने उप्र निवासी आरोपितों के पास से तमंचा व तीन कारतूस बरामद किए हैं। आरोपितों को जेल भेज दिया है।

कोतवाली में बुधवार को सुनीता पुत्री जामतू दास निवासी संगम विहार बाबूगढ़ विकासनगर ने तहरीर में कहा था कि मंगलवार रात करीब 10 व 11 बजे के बीच सुंदर पाल, बिट्टू उर्फ कुलदीप, मीना आदि ने उनके घर संगम विहार में आकर हंगामा के बाद तमंचे से फायर की। गोली खिड़की में लगी। पुलिस ने मामला दर्ज करने के बाद घटनास्थल के आसपास के लगभग 20 से 25 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी।

जिसके आधार पर पुलिस ने जाड़ोवाला चौक हरबर्टपुर से दो आरोपित कुलदीप उर्फ बिट्टू व सुंदर पाल दोनों निवासी ग्राम शीतलगढ़ी थाना झिझांना जिला शामली उत्तर प्रदेश को घटना में प्रयुक्त बाइक के साथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों के पास से तमंचे व तीन कारतूस बरामद कर लिया। पुलिस ने तमंचा बरामद होने पर शस्त्र अधिनियम में अलग से मुकदमा दर्ज किया है।

पहले भी जेल जा चुका है सिरफिरा दामाद

एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने घटना के बारे में पत्रकारों को जानकारी दी कि आरोपित सुंदर पाल का विवाह जामतु दास की पुत्री सुनीता से कुछ साल पहले हुआ था।

शादी के कुछ वर्ष बाद आपसी विवाद पर सुनीता अपने मायके बाबूगढ़ आ गई और यहीं पर रहने लगी। आरोपित सुंदर ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने पत्नी को कई बार वापस बुलाने का प्रयास किया, पर वह नहीं मानी, जिसे लेकर उसका पूर्व में ससुर जामतु दास से विवाद हो गया था।

इस संबंध में उसके खिलाफ कोतवाली विकासनगर में एससी एसटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत हुआ था, जिसमें उसे जेल हो गई थी। उसके बाद से वह और अधिक उग्र हो गया।

ससुरालियों से वह बदला लेने को तमंचे के साथ आया था। हत्या करने की नियत से उसने ससुरालियों पर तमंचे से फायर किया था। आरोपित सुंदर के खिलाफ वर्ष 2020 से अब तक पांच मुकदमे दर्ज हैं।

Edited By: Nirmala Bohra