जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड के युवा बल्लेबाज कुनाल चंदेला की घर वापसी हो गई है। अनुभवी बल्लेबाज कुनाल के टीम में शामिल होने से उत्तराखंड टीम को लाभ मिलेगा। कुनाल की घर वापसी के प्रयास उत्तराखंड को बीसीसीआइ से मान्यता मिलने के बाद से ही हो रहे थे, लेकिन मान्यता मिलने के दो साल बाद कुनाल ने दिल्ली जैसी बड़ी टीम का दामन छोड़कर उत्तराखंड का हाथ थामा है। बता दें, 2017 में रणजी ट्रॉफी के सेमीफाइनल में गौतम गंभीर के साथ 232 रनों की साझेदारी कर टीम को फाइनल में पहुंचाया था।

दून के जोहड़ी गांव निवासी आक्रामक बल्लेबाज कुनाल चंदेला ने ट्रायल देकर उत्तराखंड टीम के लिए चयनित 56 खिलाड़ियों में जगह बनाई है। कुनाल ने जागरण से बातचीत में कहा कि अपने प्रदेश की टीम से खेलने की प्रसन्नता अलग ही होती है। उत्तराखंड की जर्सी पहनकर खेलना सुखद अहसास होगा। उन्होंने अपनी प्राथमिकता गिनाते हुए कहा कि रणजी ट्रॉफी में उत्तराखंड को प्लेट से इलीट ग्रुप में शामिल करना उनकी प्राथमिकता में है। कहा कि अब उत्तराखंड टीम के साथ विश्व स्तरीय कोच वसीम जाफर हैं। उनके अनुभव से टीम का स्तर सुधरेगा। उन्होंने कहा कि अपने प्रदेश के खिलाड़ियों के साथ उनका अच्छा तालमेल है। यह बड़े मैचों में काम आएगा।

गंभीर के साथ खेलने का अनुभव

कुनाल अभी तक दिल्ली की सीनियर टीम से खेलते थे। उन्होंने कई बार पूर्व भारतीय बल्लेबाज गौतम गंभीर के साथ पारी की शुरुआत की है। 2017 में रणजी ट्रॉफी के सेमीफाइनल में गौतम गंभीर के साथ 232 रनों की साझेदारी कर टीम को फाइनल में पहुंचाया था। इस मैच में कुनाल ने 113 रनों की शतकीय पारी खेली थी। इसके अलावा विगत वर्ष केरल के खिलाफ खेलते हुए 125 रनों की शतकीय पारी खेली थी।

अफगानिस्तान के गेंदबाजों को भी छकाया

2018 में राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में उत्तराखंड और अफगानिस्तान टीम के बीच खेले गए अभ्यास मैच में भी कुनाल चंदेला ने उत्तराखंड की और से खेलते हुए अफगानिस्तान के अंतरराष्ट्रीय स्तर के गेंदबाजों को खूब छकाया। कुनाल चंदेला ने 38 गेंदों में 5 चौके व दो छक्कों की मदद से 47 रन बनाए।

यह भी पढ़ें: रणजी ट्रॉफी, सैयद मुश्ताक और विजय हजारे के लिए 56 खिलाड़ी हए चयनित, देखिए सूची

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021