जागरण संवाददाता, देहरादून। Vijay Hazare Trophy: बीसीसीआइ की बड़ी घरेलू प्रतियोगिताओं की मेजबानी के लिए प्रयासरत क्रिकेट एसोसिएशन आफ उत्तराखंड (सीएयू) को झटका लगा है। बीसीसीआइ ने दून में नवंबर-दिसंबर में थ्री स्टार होटल उपलब्ध नहीं होने के कारण इस वर्ष यहां विजय हजारे ट्राफी के मैच कराने से इन्कार कर दिया है।

बीसीसीआइ की ओर से तय कार्यक्रम के अनुसार विजय हजारे ट्राफी के मैच आगामी 28 नवंबर से 16 दिसंबर के बीच खेले जाने हैं। सीएयू ने भी इसकी मेजबानी के लिए आवेदन किया था। जिसकी संभावना खंगालने के लिए बीसीसीआइ के संयुक्त सचिव जयेश जार्ज और प्रबंधक क्रिकेट संचालन अमित सिद्धेश्वर बीते छह और सात सितंबर को दून में थे। इस दौरान दोनों पदाधिकारियों ने दून में उपलब्ध क्रिकेट मैदानों के साथ सभी प्रमुख होटल का भ्रमण किया। लेकिन, उन्हें 28 नवंबर से 16 दिसंबर के बीच सभी थ्री स्टार होटल पहले से बुक मिले।

यह भी पढ़ें:-बीसीसीआइ सचिव जय शाह और राजीव शुक्ला ने क्रिकेट हस्तियों को किया सम्मानित

कोरोना के मद्देनजर बीसीसीआइ इस वर्ष भी घरेलू सत्र का आयोजन बायो बबल वातावरण में कर रहा है। विजय हजारे ट्राफी की मेजबानी मिलने पर छह टीमों के मैच दून में कराए जाते। जिनके खिलाड़ि‍याें और स्टाफ को बायो बबल वातावरण में ठहराने के लिए कम से कम चार थ्री स्टार होटल चाहिए थे।

यह भी पढ़ें :-उत्तराखंड में आइपीएल की उम्मीद जगा गए बीसीसीआइ के सचिव जय शाह

राजीव गांधी स्टेडियम से भी नाखुश

दून में प्रवास के दौरान जयेश जार्ज और अमित सिद्धेश्वर ने राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भ्रमण भी किया था। जहां उन्हें मैदान में बड़ी-बड़ी घास मिली। रखरखाव का स्पष्ट रूप से अभाव दिखा। इससे दोनों पदाधिकारी नाखुश नजर आए। तनुष क्रिकेट एकेडमी के मैदान को भी उन्होंने विजय हजारे ट्राफी के मानकों के अनुकुल नहीं बताया। विजय हजारे ट्राफी के मैच अंतरराष्ट्रीय मानक पूरा करने वाले क्रिकेट मैदानों पर ही कराए जाते हैं। इसके लिए मैदान का रेडियस 70 मीटर होना जरूरी है। 2019-20 में देहरादून के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी व कसीगा स्कूल के क्रिकेट मैदान पर विजय हजारे ट्राफी के प्लेट ग्रुप के सभी 43 मुकाबले खेले गए थे।

यह भी पढ़ें:- Cricket Tournament: बीसीसीआइ के संयुक्त सचिव जयेश जार्ज ने किया मैदानों का निरीक्षण

 

Edited By: Sunil Negi