देहरादून, जेएनएन। दून-मसूरी रोड के 50 मीटर हिस्से को ध्वस्त हुए तीन दिन बीत गए हैं, मगर अभी भी इसका पुनर्निर्माण गति नहीं पकड़ पाया है। बारिश के कारण निर्माण कार्य जब-तब बाधित हो जा रहा है। गुरुवार को तो यहां पूरा दिन काम नहीं हो पाया। वहीं, महापौर सुनील उनियाल गामा ने सड़क के ध्वस्त भाग का निरीक्षण कर सुरक्षित ढंग से निर्माण करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जनता की सुविधा के लिहाज से इस मार्ग का जल्द खुलना जरूरी है। इसलिए सड़क को तय समय से पहले ही यातायात के लिए बहाल करने की कोशिश की जाए। 

लोनिवि प्रांतीय खंड के अधिशासी अभियंता जेएस चौहान ने बताया कि सुरक्षा दीवार बनाने के लिए गुरुवार को पहाड़ी के कटान संबंधी कुछ काम किए जाने थे, लेकिन बारिश के बीच यह काम संभव नहीं है, क्योंकि इससे पहाड़ी का बाकी हिस्सा भी नीचे खिसक सकता है। अधिशासी अभियंता ने बताया कि अभी सुरक्षा दीवार खड़ी करने के लिए नींव का आंशिक काम ही हो पाया है। वायरकेट व आवश्यक मशीनें स्थल पर पहुंचा दी गई हैं। साथ ही निर्माण के लिए पत्थर जमा किए जा रहे हैं।

हल्के वाहनों की आवाजाही जारी, भारी पर अंकुश

जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव के निर्देश के बाद गुरुवार को दून-मसूरी रोड पर भारी वाहनों की आवाजाही रोक दी गई। हल्के वाहनों को ही पुलिस की निगरानी में गुजारा गया। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में बारिश और भूस्खलन से जन जीवन अस्त-व्यस्त

मसूरी के कोतवाल देवेंद्र असवाल ने बताया कि सड़क के क्षतिग्रस्त हिस्से पर शाम सात से सुबह सात बजे तक सभी प्रकार के वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित है। शुक्रवार को भी हल्के वाहनों को ही आवागमन की अनुमति रहेगी। इसके बाद अगर निर्माण कार्य ने रफ्तार पकड़ी तो मार्ग को पूर्ण रूप से बंद किया जा सकता है। लोक निर्माण विभाग से कहा गया है कि सड़क बनाने के लिए अगर यातायात बंद करने की आवश्यकता महसूस होती है तो इसकी जानकारी एक दिन पहले देनी होगी। 

 यह भी पढ़ें: Uttarakhand Weather News: उत्तराखंड में अगले तीन दिन भारी बारिश का अलर्ट

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021