राज्य ब्यूरो, देहरादून: कांग्रेस के राजस्थान में संपन्न चिंतन शिविर के बाद पार्टी के नेता उत्साहित नजर आ रहे हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा और नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य का कहना है कि इस शिविर के बाद कांग्रेस नए कलवेर में और मजबूत होकर सामने आएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि आने वाले निकाय चुनाव व लोकसभा चुनाव में पार्टी पूरी ताकत झोंकेगी।

रविवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि कांग्रेस पहले भी अच्छा कार्य कर चुकी है अब और बेहतर करके दिखाएगी। अभी चिंता का विषय यह है कि भाजपा झूठ बेच रही है। इसमें वह सक्षम भी है। कांग्रेस सच नहीं बेच पा रही है। देश को नामी संस्थान देने, राष्ट्र को खड़ा करने और विकसित राष्ट्र के रूप में लाने के बाद भी कांग्रेस जनता के बीच लोकप्रिय नहीं हो पा रही है। अब इस शिविर के बाद कांग्रेस नए कलेवर व नए रंगरूप में नजर आएगी।

नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि शिविर में राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी का प्रेरणादायक उद्बोधन, नई आशा और विश्वास मिला। कांग्रेस ने हमेशा समेकित विकास, सामाजिक न्याय, गरीबी उन्मूलन, शोषित व अल्पसंख्यक समाज को उठाने, महिलाओं और हाशिये पर गए व्यक्तियों के लिए काम किया है। इनके लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं। अब सोनिया गांधी के नेतृत्व में नई शुरुआत होने जा रही है। कांग्रेस का परचम आने वाले समय में लहराएगा।

राहुल गांधी के बयान पर पलटवार

भाजपा ने चिंतन शिविर में दिए गए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान पर पलटवार किया है, जिसमें भाजपा में अनुसूचित जाति का सम्मान न होने की बात कही गई। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कांग्रेस को पहले अपने गिरेबां में झांकना चाहिए और फिर बात करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस डूबता जहाज है, जिसे बचाने को उसके नेता इस तरह की अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कौशिक ने कहा कि जनता भली भांति जानती है कि कांग्रेस ने हमेशा ही अनुसूचित जाति को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया। इस वर्ग की सुध लेने के कांग्रेस ने कभी प्रयास ही नहीं किए। उन्होंने कहा कि भाजपा ने हमेशा अनुसूचित जाति का सम्मान किया है और करती आई है। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार आने के बाद अनुसूचित जाति के उत्थान को एक नहीं अनेक कई कदम उठाए गए हैं।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र जुगरान ने इस विषय पर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य पर निशाना साधते हुए कहा कि अनुसूचित जाति का सबसे अधिक उत्पीडऩ कांग्रेस सरकार में आर्य के मंत्री रहते हुए हुआ। समाज कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति घोटाला उन्हीं के संरक्षण में हुआ और वह दागी अधिकारियों को बचाते रहे।

जुगरान ने कहा कि राहुल गांधी ने राजस्थान में चिंतन शिविर के दौरान यशपाल आर्य का हवाला देते हुए कहा कि भाजपा में अनुसूचित जाति के व्यक्तियों की उपेक्षा होती है। इसी कारण आर्य भाजपा छोड़कर वापस कांग्रेस में आए। उन्होंने कहा कि इस बयान से राहुल गांधी की अपरिपक्वता एक बार फिर दिखाई दी। उन्हें आर्य के राजनीतिक चरित्र की जानकारी नहीं है।

आर्य ने यह सोचा था कि इस बार कांग्रेस सत्ता में आ रही है। इसलिए वह भाजपा छोड़ कांग्रेस में वापस लौट गए। आर्य व उनके पुत्र को भाजपा ने टिकट दिया था और दोनों चुनाव भी जीते। उन्होंने प्रश्न उठाया कि अगर आर्य को लगा कि भाजपा में अनुसूचित जाति का सम्मान नहीं होता तो उन्होंने कब आवाज उठाई और कब विरोध दर्ज कराया। उन्होंने आर्य को राजनीति मौसम वैज्ञानिक भी करार दिया।

Edited By: Nirmala Bohra