संवाद सहयोगी, विकासनगर: पछवादून में ईद त्योहार सादगी से मनाई गई। कोविड क‌र्फ्यू की बाध्यता के चलते ईद पर दिखने वाली चहल-पहल भी पूरे क्षेत्र में ठप रही। वहीं निर्धारित नियमों के मुताबिक ईदगाह और मस्जिदों में महज पांच सदस्यों ने ही नमाज अदा की, अन्य ने अपने घरों में ही नमाज पढ़ी। एक दूसरे को फोन पर मुबारकबाद के साथ नमाजियों ने संक्रमण का शिकार हो रहे देशवासियों की हिफाजत और अमन व चैन की दुआ मांगी।

रमजान का महीना समाप्त होने के बाद पछवाून क्षेत्र में ईद उल फितर सादगी पूर्ण वातावरण में मनाया गया। क्षेत्र के विकासनगर, सेलाकुई, सहसपुर, रामपुर, हरबर्टपुर, बैरागीवाला, ढाकी, जीवनगढ़, ढकरानी, नवाबगढ़ आदि क्षेत्रों में स्थित ईदगाहों में पहले से निर्धारित की गई व्यवस्था के हिसाब से पांच लोग ही नमाज अदा करने के लिए पहुंचे। उधर, क्षेत्र की अधिकतर मस्जिदों में भी पांच सदस्यों ने ही नमाज पढ़ी। गलियों और सड़कों पर भी ईद की रौनक दिखाई नहीं दी। नमाज अदा कर अकीदतमंदों ने संक्रमण का शिकार हो रहे देशवासियों की जान की हिफाजत के लिए दुआ भी की।

विकासनगर ईदगाह के प्रबंधक मुनीर अहमद, कुल्हाल के ग्राम प्रधान मोहम्मद सलीम ने बताया कि कोरोना संक्रमण के प्रकोप के चलते दो दिन पहले ही पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने पछवादून की सभी ईदगाह कमेटियों से नमाज के दौरान भीड़ नहीं इकट्ठा करने का आग्रह किया था। इसके आधार पर गांवों और शहरों में निवास करने वाले मुस्लिम समुदाय को इस संबंध में जानकारी दे दी गई थी। उन्होंने कहा कि समुदाय ने पुलिस और प्रशासन की ओर से तय की गई संख्या के हिसाब से ही सभी मस्जिदों और ईदगाहों में नमाज अदा की। उन्होंने आने वाले दिनों में भी संक्रमण की रोकथाम के लिए जरूरी सावधानी का पालन करने की अपील भी क्षेत्रवासियों से की है।