मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, [जेएनएन]: एससी, एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध भारत बंद का उत्तराखंड में मिलाजुला असर रहा।

पौड़ी, चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों के कई कस्बों में बाजार बंद रहे तो देहरादून में इसका कोई असर देखने को नहीं मिला, लेकिन हरिद्वार और ऋषिकेश में आंशिक प्रभाव रहा। कुमाऊं में भी स्थिति गढ़वाल मंडल की भांति ही रही। यहां बंद का तो ज्यादा असर नहीं रहा, लेकिन कुछ संगठनों और छात्रों ने जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदेश में कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।

बंद का सर्वाधिक असर पौड़ी जिले में रहा। पौड़ी, श्रीनगर और सतपुली में सुबह से ही व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। व्यापार मंडल के नेतृत्व में जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया गया और अधिकारियों को ज्ञापन सौंपे गए। चमोली जिले में गोपेश्वर, जोशीमठ और सिमली बाजार बंद रहे। इस दौरान व्यापारियों और छात्र-छात्राओं ने केंद्र सरकार के विरोध में नारेबाजी की।

कुमाऊं में काशीपुर और अल्मोड़ा में बंद का ज्यादा असर रहा। शेष जिलों में यह आंशिक अथवा बेअसर रहा। अल्मोड़ा के रानीखेत और द्वाराहाट में चाय तक की दुकानें नहीं खुलीं। इससे यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। ऊधमसिंह नगर जिले के काशीपुर में सवर्ण समाज ने प्रदर्शन कर एक्ट में संशोधन का विरोध किया।

यह भी पढ़ें: हाईवे के गड्ढों में मछलियां छोड़ किया प्रदर्शन, जताया रोष

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में आंदोलन की राह पर 108 सेवा के फील्ड कर्मी और आशा कार्यकर्ता

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप