जागरण संवाददाता, देहरादून: देहरादून जू में सैलानी और वन्यजीव प्रेमी अब सर्पो के अनूठे संसार का भी करीब से दीदार कर सकेंगे। इस जू में उत्तराखंड का पहला सर्पेनटाइन हाउस (सर्पबाड़ा) जल्द ही आकार लेने जा रहा है। इसके लिए सेंट्रल जू अथॉरिटी (सीजेडए) ने मंजूरी दे दी है। जल्द ही कर्नाटक के पिलिकुला बायोलॉजिकल पार्क और चेन्नई के स्नेक पार्क ट्रस्ट से यहां विभिन्न प्रजातियों के सर्पो को लाया जाएगा।

मसूरी-देहरादून मार्ग पर स्थित देहरादून जू सैलानियों के आकर्षण का केंद्र है। रोजाना ही बड़ी संख्या में पर्यटक और वन्यजीव प्रेमी आते हैं। अब विभिन्न प्रजातियों के पशु-पक्षियों के साथ ही सैलानी वहां रस्सल वाइपर, पायथन, किंग कोबरा, कोबरा, करेत, कॉमन सेंड, वाइन स्नेक, रैटल स्नेक, रेटीकुलेटेड पायथन सहित विभिन्न प्रजातियों के साप भी देखने को मिलेंगे। इसके लिए पिछले छह माह से वहां सर्पेनटाइन हाउस तैयार किया जा रहा है, जो कि अब अंतिम चरण में है। इस बीच सेंट्रल जू अथॉरिटी ने भी जू में सर्पेनटाइन हाउस को हरी झंडी दे दी है। निदेशक जू पीके पात्रो ने बताया कि कुछ समय पहले सीजेडए की टीम ने देहरादून जू में सर्पेनटाइन हाउस का दौरा किया था। हाउस मानकों के अनुरूप पाया गया। इसके बाद इसमें सांप रखने की अनुमति दे दी।

---------

27 प्रजाति के 344 पशु-पक्षी हैं यहा

देहरादून जू एक बेहतरीन टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनता जा रहा है। देश के चुनिंदा बेहतरीन जू में इसकी गिनती होने लगी है। वर्तमान में यहां 27 प्रजाति के कुल 344 पशु-पक्षी हैं। कैक्ट्स की 450 प्रजातिया भी यहा मौजूद हैं। ईको फ्रेंडली सिस्टम के तहत बनाया गया देहरादून जू स्थानीय लोगों और पर्यटकों की पहली पसंद है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran