संवाद सहयोगी, चम्पावत : नवरात्र के नौवें दिन भक्तों ने मां सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना कर मन्नत मांगी। सुबह से ही मंदिरों में भीड़ जुटनी शुरू हो गई। घरों और मंदिरों में बड़ी संख्या में लोगों ने कन्या पूजन किया। चम्पावत के प्रसिद्ध देवी मंदिर हिगला देवी में सुबह से लेकर शाम तक कन्या पूजन और भजन कीर्तन का कार्यक्रम चला। बालेश्वर, नागनाथ, डिप्टेश्वर, गोल्ज्यू सहित सभी मंदिरों में पूजा पाठ किया गया। अंतिम दिन अधिकांश मंदिरों में दुर्गाशप्तसती पाठ और यज्ञ हुए। जिला मुख्यालय स्थित एसएसबी पांचवी वाहिनी में जवानों ने नव दुर्गा की पूजा अर्चना की। इस दौरान भंडारे का आयोजन किया गया। गुरु गोरखनाथ मंदिर में भी भंडारा लगाया गया। सुबह विधि विधान से नव दुर्गा की पूजा की गई। टनकपुर और बनबसा के मंदिरों में भी विशेष पूजन हुआ। ======== देर शाम तक जयकारों से गूंजे मंदिर

संस, लोहाघाट : नवमी पर्व पर जगह-जगह माता सिद्धिदात्री के पूजन के साथ विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन किया गया। लोहाघाट के ऋषेश्वर महादेव के मंदिर, मां बाराही धाम देवीधुरा, बिशुंग के मां कणाई देवी मंदिर, चारद्योली, गलचौड़ा, झूमाधूरी, देवीधार, अखिल तारणी, खेतीखान के भगवती मंदिर, फटक शिला, सिद्ध मंदिर, फुटलिंग महादेव सहित बाराकोट, पाटी के विभिन्न मंदिरों में पूरे दिन पूजा-पाठ करने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। छमनियां चौड़ में 36 वी वाहिनी आइटीबीपी के सर्व देव मंदिर में भंडारे का आयोजन किया गया। हिमवीर जवानों के परिवार जनों सहित बल के हिमवीरों ने प्रसाद ग्रहण कर पुण्य लाभ कमाया। ===== नवमी पर देवी मंदिरों में उमड़ी भारी भीड़

पिथौरागढ़: शारदीय नवरात्र की नवमी पर गुरुवार को देवी मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ जुटी रही। मां दर्शनों के लिए सुबह से शाम तक मंदिरों में भक्तों का आना-जाना लगा रहा। नवरात्र पर उपवास रखने वाले व्रतधारियों ने घरों में कन्या पूजन कर व्रत खोले।

गुरुवार को जिला मुख्यालय में उल्का देवी, लक्ष्मी नारायण मंदिर, गुरना माता, कामाख्या माता, हुड़ेती कौशल्या देवी, पौण चंडिका माता, रामगंगा घाटी में स्थित प्रसिद्ध चंडिका घाट, मड़धूरा, ध्वज की जयंती माता के अलावा गंगोलीहाट में प्रसिद्ध शक्तिपीठ महाकाली मंदिर, पांखू कोटगाड़ी मंदिर, नेपाल के प्रसिद्ध त्रिपुरा सुंदरी मंदिर समेत आदि जनपद के प्रमुख मंदिरों में सुबह चार बजे से ही भक्तों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। भक्तों ने बारी-बारी से मां के दर्शन किए। इस दौरान मां के नवम स्वरू प के रू प में मां सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना की गई। गुरना मंदिर, लेकघाटी आदि स्थानों में विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भंडारे का प्रसाद ग्रहण किया।

Edited By: Jagran