बनबसा, जेएनएन : नेपाल में बन रहे ड्राईपोर्ट को जोड़ने के लिए भारत से बन रही सड़क निर्माण के लिए सर्वे करने आई टीम और प्रशासन का ग्रामीणों ने फिर से विरोध किया। बाद में एसडीएम टनकपुर हिमाशु कफल्टिया के समझाने के बाद मामला शात हुआ। हालांकि अभी कुछ समाधान नहीं निकल पाया है।

गौरतलब है कि नेपाल के कंचनभोज में नेपाल सरकार द्वारा सूखा बंदरगाह (ड्राईपोर्ट) निर्माण कराया जा रहा है। भारत को बंदरगाह से जोड़ने के लिए बनबसा के जगबूढ़ा पुल से भारत नेपाल सीमा से लगे भारतीय सीमा में आने वाली ग्राम सभा गुदमी के अंतगर्त लाटाखल्ला, गड़ीगोठ और भैंसाझाला होते हुए सड़क निर्माण किया जाना है। जिसके सर्वे के लिए दिल्ली से आई एनएचएआइ सर्वे की टीम और प्रशासन की टीम का फिर से ग्रामीणों ने विरोध किया ग्रामीणों का कहना है कि की प्रस्तावित सड़क को गाव के बीच और ग्रामीणों की भूमि से न बनाना जाए। ग्रामीणों का कहना है कि पूराने सर्वे में वन विभाग की खाली पड़ी भूमि पर ही सड़क निर्माण कराया जाए। मौके पर पहुंचे एसडीएम हिमाशु कफल्टिया के समझाने के बाद ग्रामीण शात हुए, लेकिन अभी कुछ समाधान नहीं निकल पाया है। इस अवसर पर तहसीलदार खूशबू पाडे, थानाध्यक्ष जसवीर सिंह चौहान, ग्रामीण खिलानन्द पंत, शेखर जोशी, गजेन्द्र सिंह, अर्जुन भंडारी, पार्वती देवी, माधवी देवी, ममता चंद, मंजू देवी, गंगा दत्त भट्ट, दीपक जोशी, बबीता जोशी, अनीता भंडारी, निमा देवी, तुलसी देवी समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस