संवाद सहयोगी, चम्पावत : स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार ने सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान के प्रचार-प्रसार के तहत देश के 28 राज्यों के 530 जनपदों में से 2158 गांवों का चयन किया है। जिसमें उत्तराखंड के सभी जनपदों से 116 गावों का चयन किया गया है तथा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा राज्य के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को अभियान के नियोजन व क्रियान्वयन के लिए निर्देशित कर दिया गया है। साथ ही प्रचार-प्रसार के लिए प्रदेश को 2.90 लाख का बजट स्वीकृत कर दिया है।

पूरे देश में 23 से 27 अप्रैल तक सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान के प्रचार-प्रसार के लिए सरकार ने 28 राज्यों से गांवों का चयन किया गया है। जिसमें चयनित गांवों में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। इंद्रधनुष अभियान के तहत जनपद से दो गांव फागपुर व मौनकांडा का चयन किया गया है। जहां आइईसी गतिविधियों का नियोजन व क्रियांवयन किया जाएगा। इसके लिए प्रचार प्रसार के लिए आइईसी सामग्री, पोस्टर, बैनर के मुद्रण आदि के लिए दिशा निर्देश एवं बजट निर्गत गया है। राज्य के हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर, नैनीताल जनपद में प्रचार-प्रसार के लिए माइकिंग का भी प्रयोग करने के निर्देश हैं। प्रचार-प्रसार व टीकाकरण के लिए प्रत्येक गांव को 2500 ही धनराशि स्वीकृत की गई है। राज्य में उत्तरकाशी से दो, चमोली से दो, रुद्रप्रयाग से दो, टिहरी गढ़वाल से चार, देहरादून से दो, पौढ़ी गढ़वाल से दो, पिथौरागढ़ से एक, बागेश्वर से तीन, चम्पावत से दो, नैनीताल से 19, ऊधमसिंह नगर से 21 तथा हरिद्वार से 53 गांवों का चयन किया गया है।

.........

इंद्रधनुष मिशन के तहत जनपद से दो गांव फागपुर व मौनकांडा का चयन किया गया हैं। जहां स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण करेगी।

-एमएस बोहरा, सीएमओ

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस