संवाद सहयोगी, चम्पावत : कांग्रेसियों ने कर्नाटक में सरकार गठन में भारतीय जनता पार्टी के संरक्षण में कर्नाटक के राज्यपाल पर अलोकतांत्रिक प्रक्रिया अपने का आरोप लगाते हुए आक्रोश व्यक्त किया है। इसी के तहत शुक्रवार को कांग्रेसियों ने प्रजातंत्र बचाओ दिवस मनाकर जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को एक ज्ञापन प्रेषित किया है। कांग्रेसियों ने इस पूरी प्रक्रिया की घोर निंदा की है।

ज्ञापन में कांग्रेसियों का कहना है भाजपा के पास सरकार बनाने के लिए साधारण बहुमत भी नहीं है जबकि कांग्रेस व जेडीएस के पास गठबंधन से 117 विधायकों का बहुमत है। फिर भी उन्हें सरकार बनाने से वंचित रखा गया है। उनका कहना है भाजपा सरकार के इशारे पर लोकतंत्र के सभी मानकों एवं मापदंडों पर कुठाराघात करते हुए कर्नाटक में अलोकतांत्रिक तरीके से सरकार का गठन भाजपा के तानाशाही चरित्र का घोतक है। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया है कि बीजेपी देश में दो संविधान लागू करने, एक स्वयं के लाभ के लिए और दूसरा विपक्षी दलों के लिए लागू करने की नीति पर कार्य कर रही है। कांग्रेसियों ने कर्नाटक में अपनाई गई अलोकतांत्रिक नीति का संज्ञान लेने और राज्यपाल को बर्खास्त कर लोकतंत्र की रक्षा करने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में नगर अध्यक्ष विजय वर्मा, उमेश खर्कवाल, राम सिंह फत्र्याल, सूरज प्रहरी, महेश सिंह बोहरा, गणेश पांडेय, नवीन जोशी, गिरीश सिंह, रोहित बिष्ट, मयूख चौधरी, केएन बिनवाल आदि लोग शामिल रहे।

Posted By: Jagran