दो दिन बाद फिर खुली फूलों की घाटी, 165 पर्यटकों ने किया दीदार

-भारी वर्षा के चलते मलबा आने से शुक्रवार रात बंद हो गया था फूलों की घाटी जाने वाला पैदल मार्ग

-घांघरिया में रोक दिए गए थे पर्यटक, सोमवार को मार्ग खुलने के बाद वन विभाग ने ली राहत की सांस

--------------------------------------------------------------------

संवाद सूत्र, जोशीमठ (चमोली): भारी वर्षा के चलते मलबा आने से बंद पड़ा फूलों की घाटी जाने वाला पैदल मार्ग दो दिन बाद पर्यटकों के लिए खोल दिया गया। सोमवार को 165 पर्यटकों ने घाटी का दीदार किया। पैदल मार्ग शुक्रवार रात द्वारी पैरा व ग्लेशियर प्वाइंट के पास मलबा व बोल्डर आने से बंद हो गया था। इसके बाद घाटी के दीदार को जाने वाले पर्यटक घांघरिया में ही रोक दिए गए थे।

चमोली जिले में रुक-रुककर हो रही वर्षा से जहां आम जनजीवन अस्त-व्यस्त है, वहीं पर्यटकों को भी खासी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं। खासकर विश्व धरोहर फूलों की घाटी (12995 फीट) जाने वाले पर्यटक तो मार्ग अवरुद्ध होने के कारण दो दिन बेस कैंप घांघरिया से आगे नहीं बढ़ पाए। सोमवार को काफी प्रयासों के बाद पैदल मार्ग से मलबे का हटाया जा सका, तब जाकर पर्यटकों ने घाटी का रुख किया। पैदल मार्ग खुलने से वन विभाग ने भी राहत की सांस ली। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क की वन क्षेत्राधिकारी चेतना कांडपाल ने बताया कि मलबे के कारण बंद पड़ी फूलों की घाटी पर्यटकों के लिए फिर से खोल दी गई है।

Edited By: Jagran