संवाद सहयोगी, गोपेश्वर :

चमोली जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर घमासान मचा हुआ है। यही कारण है कि भाजपा हो या कांग्रेस दोनों ने अपना प्रत्याशी अभी तक घोषित नहीं किया है। कांग्रेस में टिकट को लेकर कांग्रेस पृष्ठभूमि के पिडर घाटी के पांच सदस्यों के बगावती तेवर भी सामने आए हैं। हालांकि उनके इस्तीफे या भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं भी राजनीतिक गलियारों में तेजी से हो रही है।

भाजपा के पास एक बागी सहित कुल दस जिला पंचायत सदस्यों हैं। इन सदस्यों ने बीते दिन मुख्यमंत्री से भी मुलाकात की। बताया गया कि कांग्रेस समर्थित पांच जिला पंचायत सदस्य भी राजधानी में मुख्यमंत्री से मिले हैं। चमोली के पिडर घाटी से निर्वाचित इन सदस्यों ने पिडर घाटी से जिला पंचायत अध्यक्ष पद के टिकट की मांग की है। जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए चमोली जिले में बहुमत का आंकड़ा पार करने के लिए 14 सदस्यों की दरकार है। बताया गया कि कांग्रेस से टिकट के दावेदार जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मण सिंह रावत के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश से मिल चुके हैं। इसके बाद जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए कांग्रेस से टिकट की प्रबल दावेदार पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी भंडारी ने भी 12 सदस्यों के समर्थन का दावा कर पार्टी के बड़े नेताओं से मुलाकात की है। रजनी भंडारी के पति राजेंद्र भंडारी चमोली के कांग्रेस के कद्दावर नेता हैं। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह रावत ने निर्वाचित सदस्यों के कांग्रेस से इस्तीफा देने की बात को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में एकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस