संवाद सहयोगी, गोपेश्वर :

सरकारी विभागों की सेवाओं को सुगम बनाने के लिए बनाया अपणि सरकार ई-पोर्टल तीन सप्ताह बाद भी चमोली जिले में शुरू नहीं हो पाया है। पंजीकरण के लिए युवाओं को परेशानी झेलनी पड़ रही है। सेवायोजना विभाग का कहा है कि शासन से पोर्टल खोलने के लिए विभाग को जो पासवर्ड दिया गया वह कार्य नहीं कर रहा है।

बीते 17 नवंबर को प्रदेश में अपणि सरकार पोर्टल का आरंभ किया गया। मकसद था कि 75 विभागीय सेवाओं का लाभ इस पोर्टल के माध्यम से बेरोजगारों को दिया जाएगा। तीन सप्ताह बीतने को हैं, मगर अभी तक चमोली जिले में अपणि सरकार पोर्टल का आरंभ ही नहीं हो पाया है। पहले कामन सर्विस सेंटर के माध्यम से ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के जरिए युवा विभिन्न पदों के लिए आवेदन करते थे। अपणि सरकार पोर्टल शुरू होने के बाद ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल भी पूर्ण रूप से बंद हो गया। ऐसे में सीएससी संचालक भी अपणि सरकार पोर्टल के माध्यम से ही युवाओं का पंजीकरण करा रहे हैं।

जोशीमठ विकासखंड के गणांई गांव निवासी सुनील सिंह सीएससी में अपना पंजीकरण कराने पहुंचे थे। उनका कहना है कि अपणि सरकार पोर्टल का संचालन न होने से उनका पंजीकरण ही नहीं हो पा रहा है। घाट के कांडई गांव निवासी शेखर सिंह कहते हैं कि कनिष्ठ अभियंता पद के लिए आवेदन मांगे गए हैं। वह लगातार सेवायोजना विभाग के चक्कर काट रहे हैं। मगर उनका पंजीकरण नहीं हो पा रहा है। कहा कि इस लापरवाही के कारण अब उन्हें रोजगार की चिता सता रही है।

मामले में प्रभारी सेवायोजन अधिकारी तेजपाल सिंह ने बताया कि अपणि सरकार पोर्टल के संचालन के लिए विभाग को दिया गया पासवर्ड कार्य नहीं कर रहा है। बताया कि निदेशालय स्तर पर इस संबंध में जानकारी दी जा चुकी है। पोर्टल का चमोली जिले में संचालन न होने पर पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेंद्र सिंह भंडारी ने कहा कि सरकार युवाओं के साथ छल कर रही है। चुनावों से पहले बेरोजगार युवाओं को छलने व ठगने के लिए पोर्टल के माध्यम से सभी सेवाओं के लिए पंजीकरण का भरोसा दिलाया गया। मगर यह पोर्टल ही बेरोजगारों के लिए मुसीबत बन गया है।

Edited By: Jagran