v>गोपेश्वर (चमोली), [जेएनएन]: जिला चिकित्सालय में जन औषधि केंद्र में औषधि नाम की चीज नहीं है। उद्घाटन के बाद भी जन औषधि केंद्र में सस्ती दवाईयां न मिलने से लोग स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली से नाराज हैं। इस केंद्र में मरीजों को जैनेरिक दवाईयां मिलनी थी। 

गौरतलब है कि 26 जनवरी को जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक के हाथों जिला चिकित्सालय में जनऔषधि केंद्र का शुभारंभ किया गया था। तब जन औषधि केंद्र में दवाईयों की भरमार थी, लेकिन उद्घाटन के बाद लोग जन औषधि केंद्र में दवाईयां लेने गए तो यहां से दवाइयां न होने की बात कही गई। 
बताया गया कि उद्घाटन के दिन जन औषधि केंद्र में जिला चिकित्सालय के सरकारी स्टोर की दवाइयां उद्घाटन के लिए सजाई गई थी। मंशा थी कि जन औषधि केंद्र में सभी जीवन रक्षक दवाइयां जेनेरिक यहां सस्ते दामों पर मिले। इससे निसंदेह लोगों का फायदा होता। परंतु उद्घाटन के एक सप्ताह बाद भी जन औषधि केंद्र से जनता दूर है। लोगों का कहना है कि जब दवाइयां ही नहीं थी तो इस औषधि केंद्र के उद्घाटन की ऐसी क्या जल्दी थी। 
उन्होंने बताया गया कि जन औषधि केंद्र के लिए दवाइयों की खरीद को चिकित्सा प्रबंधन समिति से 2.5 लाख की राशि आवंटित की गई है। इससे दवाइयों की खरीद की जा रही है, लेकिन सरकारी प्रक्रिया में देरी के चलते दवाइयां अभी तक नहीं पहुंची है। सीएमओ डॉ.भागीरथी जंगपांगी का कहना है कि दवाई खरीद के लिए धनराशि स्वीकृत है। जिला चिकित्सालय को इसकी खरीद करनी है।

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप