उत्तरकाशी : सीमांत जनपद उत्तरकाशी में भी हिमालय दिवस मनाया। इस अवसर पर 12वीं वाहिनी आइटीबीपी मातली के हिमवीरों व वन विभाग के कर्मचारियों ने हिमालय के संरक्षण करने का संकल्प लिया। इस अवसर पर पौध रोपण किया गया। हिमालय दिवस व ब्रेव न्यू व‌र्ल्ड संस्था की ओर से गोष्ठी का आयोजन किया गया। संस्था के जयहरि श्रीवास्तव ने कहा कि 1763 में राजस्थान के विश्नोई समाज की अमृता देवी व 363 लोगों के खेजड़ी के वृक्षों के संरक्षण को याद किया। इसके साथ ही 1930 का रवाईं का वन आंदोलन, 1975 में रैणी का प्रसिद्ध चिपको आंदोलन चलाया गया। इस अवसर पर संस्था के सचिव विकास मंद्रवाल, जगदीश प्रसाद रतूड़ी, हरीश गुसाईं, विनोद असवाल, डॉ. विजयानंद, तनुजा, विवेक, जितेंद्र, महेश आदि मौजूद थे। (जासं)

Posted By: Jagran