मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बागेश्वर, [जेएनएन]: बागेश्वर में धार्मिक व एतिहासिक महत्व के गांव बैजनाथ की एक हजार से अधिक की आबादी गोमती नदी का दूषित पानी पीने को विवश है। कत्यूरी राजाओ की इस विरासत मे पेयजल के लिए कोई व्यवस्था नही है।

तहसील और ब्लाक मुख्यालय से महज एक किमी की दूरी पर स्थित बैजनाथ गांव गोमती नदी के किनारे बसा है। गरुड़-बागेश्वर मोटर मार्ग पर स्थित इस गांव की आबादी 1156 है। गांव में कत्यूरी शासनकाल में निर्मित विश्व विख्यात एतिहासिक बैजनाथ मंदिर होने से गांव का धार्मिक व पौराणिक महत्व भी है। इस महत्व के बाद भी यहां पर पीने के पानी की व्यवस्था तक नहीं है।

यह भी पढ़ें: नमामि गंगे परियोजना पर नहीं हुआ काम शुरू

मंदिर के पुजारी पूरन गिरी ने बताया कि उन्होंने मंदिर में पर्यटकों व श्रद्धालुओं के लिए पानी की व्यवस्था करने की मांग को लेकर प्रदेश के मंत्रियों, विधायकों से मांग कर चुके हैं। लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया, जिस कारण पर्यटकों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें: गंगा नदी में रोजाना गिरती है 47 एमएलडी गंदगी

Posted By: Gaurav Kala

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप