जागरण संवाददाता, बागेश्वर: हरसीला-कफौली गांव में बिजली की क्षतिग्रस्त लाइन में ऊर्जा निगम की मदद करते समय करंट से झुलसे युवाओं ने मुआवजे की मांग की है। उन्होंने कहा कि इलाज में उनके दस से 50 हजार रुपये तक व्यय हो गए हैं। 16 अप्रैल को हरसीला-कफौली गांव में लाइन की मरम्मत चल रही थी। गांव के लोगों को बिजली के तार खींचने को बुलाया गया। जिसमें नवीन पांडे, गोपाल जोशी और भुवन सिंह की करंट की चपेट में आने से मौत हो गई थी जबकि गांव के नवल किशोर पांडे, दिनेश चंद्र पांडे और भास्कर जोशी रह झुलस गए थे। बुधवार को तीनों घायल ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता से मिले। जेई और लाइनमैन के आग्रह पर तार खींचने को गए थे। इलाज में सारा रुपया खर्च हो गया। घटना निगम की लापरवाही से हुई है। ऐसे में मुआवजा न मिला तो धरना-प्रदर्शन को बाध्य होना पड़ेगा। इधर, ईई भास्कर पांडे ने कहा कि ऊर्जा निगम प्रकरण की जांच कर रहा है। रिपोर्ट के बाद उच्चाधिकारी प्रकरण पर निर्णय लेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस