जागरण संवाददाता, बागेश्वर : नगर में बाहर से आने वाले लोगों को आसानी से कमरा मिल जाता है। अपराध या अन्य घटना होने पर लोग पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हैं। चेतावनी के बावजूद कुछ लोग सत्यापन कराने में पुलिस की मदद नहीं करते। रविवार को पुलिस ने अभियान के दौरान किदायेदार का सत्यापन न कराने पर एक मकान मालिक का पांच हजार रुपये का चालान काटा। जिससे मकान मालिकों में हड़कंप मच गया है।

जिले में बाहर से व्यापार, फेरी लगाकर गांव-गांव जाकर सामान बेचने, लकड़ी का कारोबार, मसाला, चावल समेत अन्य कारोबार बाहर के लोगों के हाथ में है। वे यहां मकान किराए पर लेते हैं, जिसमें स्थानीय लोग उन्हें मदद करते हैं। पुलिस सत्यापन नहीं होने पर कई बार मकान मालिक भी परेशानी में पड़ जाते हैं। ऐसे ही एक मकान मालिक के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई को अंजाम दिया है। पुलिस अधीक्षक मुकेश कुमार के निर्देश पर यहां सत्यापन अभियान चलाया गया है। पुलिस के अनुसार लोग सत्यापन में मदद नहीं कर रहे हैं। कोतवाल टीआर वर्मा ने बताया कि शत-प्रतिशत सत्यापन किया जा रहा है। अभियान के तहत रविवार को मंडलसेरा में हरीश चंद्र ¨सह रौतेला के मकान में रह रहे किरायेदारों का सत्यापन किया गया। लेकिन वहां रह रहे किराएदार सय्यद अली का सत्यापन नहीं पाया गया। उन्होंने बताया कि पुलिस एक्ट के तहत मकान मालिक का चालान काटा गया और पांच हजार रुपये नकद जुर्माना वसूला गया। उन्होंने कहा कि सत्यापन नहीं कराने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। कोतवाल ने बताया कि कुछ बाहरी लोग यहां कपड़े का व्यवसाय कर रहे हैं। बिना टैक्स दिए यहां कपड़े के गोदाम बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग भी पुलिस की नजर में हैं, जल्द कार्रवाई को अंजाम दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस