संवाद सूत्र, कपकोट : एक्सरे टेक्नीशियन नहीं होने से क्षेत्रीय लोग जिला मुख्यालय का चक्कर लगाने को मजबूर हैं। तहसील के दूरस्थ क्षेत्रों के लिए यह दूरी करीब 50 किमी तक हो जा रही है। इससे मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कपकोट में तैनात एक्सरे टेक्नीशियन को चिकित्सा प्रबंध समिति ने रखा था। बाद में सरकारी अस्पताल में उसका चयन होने पर उसने नौकरी छोड़ दी। जिससे टेक्नीशियन का पद रिक्त हो गया। इससे सीएससी में हो रहा एक्सरे भी ठप हो गया है। बीते एक माह से यह पद खाली पड़ा है। सीएचसी में आने वाले गंभीर मरीजों को एक्सरे के लिए जिला मुख्यालय का चक्कर लगाना पड़ रहा है। जबकि स्थानीय लोगों का कहना है कि चिकित्सा प्रबंधन इस मामले में लापरवाही कर रहा है। जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है। बाछम, खाती, शामा, लीती, बदियाकोट आदि के लोगों को एक्सरे के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ रही है।

.......

आंदोलन की चेतावनी

एक्सरे टेक्नीशियन नहीं होने से क्षेत्रीय लोगों ने आक्रोश व्यक्त किया है। उनका कहना है कि यदि शीघ्र व्यवस्था सुचारु नहीं हुई तो वह आंदोलन करने को मजबूर होंगे। ग्राम प्रधान पो¨थग चंपा गढि़या, बीडीसी सदस्य तोली प्रकाश जोशी, ग्राम प्रधान फुलवारी गजेंद्र धामी, रमेश गोस्वामी, बसंत बिष्ट, खीम ¨सह, केवलानंद जोशी, प्रकाश गढि़या, हयात गढ़यिा, देवेंद्र ऐठानी आदि का कहना है कि टेक्निशीयन की व्यवस्था शीघ्र की जाए।

-----

एक्सरे टेक्नीशियन का चयन सरकारी सेवा में अन्यत्र होने के कारण उसने नौकरी छोड़ दी है। जिससे एक्सरे का काम ठप हो गया है। इस संबंध में सीएमओ को अवगत करा दिया गया है। शीघ्र ही नई नियुक्ति की जाएगी।

-डॉ. बृजेश रावत, चिकित्सा अधीक्षक, सीएचसी, कपकोट

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस