जागरण संवाददाता, बागेश्वर : सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित जनसुनवाई में 22 मूलभूत समस्याएं उठीं। बिजली, पानी, सड़क, आपदा, शिक्षा, स्वास्थ्य और आवासीय मकान आदि मसले लेकर ग्रामीण पहुंचे। डीएम ने अधिकारियों को समस्याओं का त्वरित निराकरण करने के निर्देश दिए।

डीएम रंजना राजगुरु ने ग्रामीण क्षेत्रों से आए लोगों की समस्याएं बारी-बारी से सुनी। कहा कि मूलभूत समस्याओं का निदान समय और त्वरित गति से किया जाएगा। लीती गांव के ग्रामीणों ने बताया कि भारी बारिश से भूस्खलन हो रहा हे। गांव में रहने वाले अनुसूचित जाति के परिवारों के मकानों को खतरा पैदा हो गया है। बिलौनासेरा के गांव के बलवंत प्रसाद, जीवन लाल, जय प्रकाश ने कहा कि सास-बहू खेत के निकट पानी की कोई सुविधा नहीं है। हैंडपंप से वे पानी ढो रहे हैं। चौरसों गांव के सरपंच देवेंद्र कुमार ने बताया कि एससीसी डाटा में नहीं होने के कारण गरीब ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। गरुड़ से आए दिगंबर नाथ गोस्वामी ने कहा कि राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान उनके भवन में किराए पर संचालित हो रहा है। आदर्श कालोनी निवासी त्रिलोक सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत उनके घर पर सौर ऊर्जा प्लांट लगा था। अध्यक्ष विद्यालय प्रबंधन समिति कांडे ने प्राथमिक विद्यालय में 2009 से एकल शिक्षक होने की शिकायत की। भुरचुनिया धार निवासी देवकी देवी ने बताया कि वह गरीब महिला है और उसके मकान की छत जीर्णशीर्ण हो गई है। छत गिरने का खतरा बना हुआ है और उसे आíथक मदद की जाए। इस मौके पर सीएमओ डॉ. संजय शाह, सीईओ नरेश शर्मा, सीवीओ डॉ. उदय शंकर, जिला समाज कल्याण अधिकारी एनएस गस्याल, ईई विद्युत भास्कर पांडे, मुख्य कृषि अधिकारी बीपी मौर्य, जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह, जिला पूíत अधिकारी अरुण कुमार वर्मा, जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ती चंद्र आर्य आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप