जागरण संवाददाता, बागेश्वर : कपकोट तहसील के 210 गांवों की बिजली चार घंटे तक गुल रही। 33 केवी की लाइन पर विशालकाय चीड़ का पेड़ गिरने से आपूíत चरमरा गई। विभाग ने मरम्मत का काम शुरू कर दिया है। खबर लिखे जाने तक 18 गांवों की बिजली आपूíत सुचारू नहीं हो सकी थी।

रविवार की 8.40 बजे कपकोट लाइन पर हरसिला के पास चीड़ का पेड़ गिर गया। इससे बिजली के तार टूटकर जमीन पर गिर गए। पोलों को भी नुकसान पहुंचा। हालांकि कोई घटना नहीं हुई। लेकिन कपकोट क्षेत्र के 210 गांवों की बिजली गुल हो गई। इससे लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रविवार होने से कामकाजी लोग घर पर रहे। लेकिन बिजली नहीं होने से पंखे और बिजली संचालित यंत्र शोपीस बन गए। वहीं आटा चक्की, धान कुटाई और तेल पिराई मशीनें भी ठप रहीं। व्यापार मंडल भराड़ी के अध्यक्ष शेर ¨सह ऐठानी ने कहा कि आए दिन बिजली लाइन में फॉल्ट आ रहा है। जिससे घंटों बिजली गुल हो रही है। उन्होंने बताया कि रात को भी कपकोट क्षेत्र में बिजली की आपूíत सुचारू नहीं है। उन्होंने कहा कि बिजली विभाग ने नई लाइनें बिछाईं हैं, जिनकी गुणवत्ता ठीक नहीं होने से पोल टेड़े हो गए हैं। इधर बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता भाष्कर पांडे ने बताया कि सुबह 8.40 बजे हरसिला के समीप 33 केवी की लाइन पर पेड़ गिर गया था। दोपहर एक बजे तक 197 गांवों में आपूíत सुचारू कर दी गई है। जबकि 18 गांवों में शाम चार बजे तक आपूíत करने के लिए कर्मचारी युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस