जागरण संवाददाता, बागेश्वर: सरयू गोमती नदियों को प्रदूषण से मुक्त करने के लिए नमामी गंगे की तर्ज पर ही नमामी सरयू नाम की योजना संचालित किया जाना जरूरी है। दानपुर सेवा समिति ने बैठक कर एक प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है।

समिति ने बैठक कर कहा कि गंगा को निर्मल व प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार नमामी गंगे योजना की शुरूआत कर रही है। इस योजना में सरकार करोड़ों की राशि खर्च कर रही है। जबकि कुमाऊं क्षेत्र में इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। कुमाऊं क्षेत्र में बहने वाली सहायक नदियों के संरक्षण के लिए भी नमामी सरयू योजना संचालित की जानी चाहिए। बागेश्वर की जीवनदायिनी सरयू गोमती नदियों के संरक्षण के लिए विशेष योजनाएं संचालित की जानी चाहिए। समिति ने दानपुर क्षेत्र के भौगोलिक, प्राकृतिक व सांस्कृतिक संरक्षण के लिए लेखन कार्य करने तथा पुस्तकालय की स्थापना करने का निर्णय लिया गया। बैठक की अध्यक्षता दीवान सिंह दानू व संचालिन नैन राम आर्य ने किया। बैठक में केशवानंद जोशी, मान सिंह देव, हीरा सिंह टाकुली, चरण सिंह बघरी, प्रताप सिंह दानू, गोकुल देव, खड़क राम, दुर्गा सिंह, प्रताप सिंह आदि शामिल थे।