संस, भिकियासैंण (अल्मोड़ा) : स्वच्छता के प्रति नगर पंचायत भिकियासैंण कितनी संजीदा है, इसकी बानगी नगर पंचायत की कार्यप्रणाली से लगाया जा सकता है। नगर पंचायत ने स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत लाखों रुपये के वाहन और अन्य सामग्री तो खरीदी, लेकिन उपयोग करने के बजाय उन्हें झाड़ियों के बीच खड़ा कर दिया। इससे ये वाहन खड़े खड़े जंक खा रहे हैं।

नगर पंचायत ने आठ महीने पहले करीब सत्रह लाख रुपये खर्च कर कुछ वाहनों और मोबाइल शौचालयों की खरीदारी की गई। खरीद के बाद वाहनों की झाड़ियों के बीच खड़ा कर दिया। इस कारण अब वे जंक खाकर खराब होने की स्थिति में हैं। वहीं, स्वच्छता कार्य के लिए नगर पंचायत ने लाखों रुपये के वाहन प्रतिमाह किराये पर लिए हैं, जिससे उसकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं। स्थानीय लोगों ने मोबाइल शौचालय की खरीद और कोई उपयोग न होने पर भी सवाल खड़े किए हैं। ---इंसेट

ट्रैक्टर का आठ महीने बाद भी रजिस्ट्रेशन नहीं

नगर पंचायत भिकियासैंण में अनियमितताओं का अंबार है। यहां आठ महीने पहले खरीदे गए ट्रैक्टर का रजिस्ट्रेशन भी नहीं कराया गया है, जिससे सवाल उठने लाजिमी हैं।

---

एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, कार्रवाई की मांग

नगर पंचायत द्वारा बरती जा रही लापरवाही के विरोध में अब स्थानीय संगठन भी मुखर होने लगे हैं। सोमवार को व्यापार मंडल, बाड़नाथ सोसायटी और कुछ सामाजिक संगठनों ने तहसील में धरना दिया और बाद में एसडीएम अभय प्रताप को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में लोगों ने कहा है कि नगर पंचायत द्वारा जो सामग्री क्रय की गई है, महीनों बाद भी उसका प्रयोग नहीं हो पा रहा है। स्थानीय संगठनों ने कहा है कि नगर पंचायत में ईओ व अन्य स्टाफ की नियुक्ति भी की जाए। ताकि लोगों को नगर पंचायत बनने का फायदा मिल सके।

वर्जन

ऐसा नहीं है, नगर पंचायत द्वारा जो वाहन खरीदे गए हैं, समय-समय पर उनका उपयोग किया जाता है। जहां तक टैक्ट्रर के रजिस्टेशन का सवाल है, संबंधित अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित किया जा रहा है।

-अभय प्रताप सिंह, एसडीएम और प्रभारी ईओ, भिकियासैंण

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस