Move to Jagran APP

Uttarakhand Lok Sabha Election 2024: अल्मोड़ा सीट पर शहर से गांव तक के मतदाताओं ने नहीं दिखाई रुचि, हुआ केवल इतना मतदान

Uttarakhand Lok Sabha Election 2024 अल्मोड़ा संसदीय सीट पर इस बार मात्र 45.17 प्रतिशत ही मतदान हुआ है। इससे कम मतदान 25 वर्ष पहले 1999 के लोकसभा चुनावों में हुआ था। अल्मोड़ा संसदीय सीट पर मतदान का प्रतिशत कम होना यह कोई नई घटना नहीं है। इस बार इन परिस्थतियों के अलावा महंगाई बेरोजगारी पलायन से परेशान जनता भी रही।

By chandrashekhar diwedi Edited By: Nirmala Bohra Published: Sat, 20 Apr 2024 12:00 PM (IST)Updated: Sat, 20 Apr 2024 12:00 PM (IST)
Uttarakhand Lok Sabha Election 2024: महंगाई, बेरोजगारी सहित मूलभूत समस्याओं से जूझ रहे ग्रामीणों में थी निराशा

चंद्रशेखर, द्विवेदी, अल्मोड़ा : Uttarakhand Lok Sabha Election 2024: महंगाई, बेरोजगारी, मूलभूत समस्याओं से जूझ रहे मतदाता ने मतदान के दिन साइलेंट होकर अपनी मंशा जाहिर कर दी। अल्मोड़ा संसदीय सीट पर इस बार मात्र 45.17 प्रतिशत ही मतदान हुआ है। इससे कम मतदान 25 वर्ष पहले 1999 के लोकसभा चुनावों में हुआ था।

उस समय लगातार हो रहे चुनाव से लोगों में काफी निराशा भर गई थी। जिस कारण यहां 41.82 प्रतिशत मतदान हुआ था। अल्मोड़ा संसदीय क्षेत्र के सभी 14 में से 13 विधानसभाओं में बीते 2019 के चुनाव के मुकाबले कम मतदान रहा।

डीडीहाट मतदान के मामले में आगे रहा। सल्ट विधानसभा में सबसे कम मात्र 32 प्रतिशत मतदान हुआ। इस बार शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों के मतदाताओं ने भी मतदान में रुचि नहीं दिखाई।

तीसरा कोई दल ताकत में नहीं

अल्मोड़ा संसदीय सीट पर मतदान का प्रतिशत कम होना यह कोई नई घटना नहीं है। 1952 के बाद से यहां के संसदीय चुनावों के इतिहास पर गौर करे तो दो चुनाव वर्ष 2014 व 19 के लाेकसभा चुनाव ही ऐसे थे जिनमें मतदान 50 प्रतिशत से ऊपर गया। उससे पहले के चुनावों में मतदान प्रतिशत लगभग इतना ही रहा। इन दो चुनावों में मोदी मैजिक के कारण मतदान प्रतिशत में थोड़ी बढ़ोत्तरी हुई।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Lok Sabha Election 2024 Voting: उत्तराखंड के सबसे ऊंचे पोलिंग बूथ पर मतदान शुरू, अलग-अलग रंगों से सजाए केंद्र

पहाड़ का वोटिंग विहेबियर राष्ट्रीय स्तर पर चल रही हवा से ही तय होता है। इसलिए यहां पर भाजपा और कांग्रेस के अलावा तीसरा कोई दल ताकत में नहीं दिखाई देता। पहाड़ में मतदान प्रतिशत के कम होने के पीछे बहुत से कारण है। सबसे बड़े कारणों में विषम भौगोलिक परिस्थितियां है। इस बार इन परिस्थतियों के अलावा महंगाई, बेरोजगारी, पलायन से परेशान जनता भी रही।

उनमें चुनाव को लेकर ना तो कोई उत्साह था ना ही कोई उम्मीद ही थी। इस बार मोदी मैजिक का भी असर पहाड़ में नहीं देखा गया। वहीं भाजपा व कांग्रेस ने पुराने प्रत्याशियों को ही चुनावी मैदान में उतार दिया। वह चौथी बार आमने-सामने हैं। प्रत्याशियों को लेकर भी आम मतदाताओं में निराशा ही थी।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Lok Sabha Election: गढ़वाल सीट पर घटा मतदान प्रतिशत, चिंता में राजनीतिक दल; देखें आंकड़े

अल्मोड़ा संसदीय क्षेत्र के चार जिला अल्मोड़ा, बागेश्वर, पिथौरागढ़, चम्पावत के कई ग्रामीण क्षेत्रों न चुनाव के बहिष्कार का ऐलान भी कर दिया था। प्रशासन भी उनकी मांगों को लेकर सकारात्मक कदम नहीं उठा पाया। जिसका असर भी मतदान के दिन दिखाई दिया।

2024 में अल्मोड़ा संसदीय क्षेत्र में विधानसभा वार मतदान प्रतिशत

  • विधानसभा,  कुल मतदाता, प्रतिशत
  • धारचूला 87218, 48.70
  • डीडीहाट 80424, 49.20
  • पिथौरागढ़ 107582, 50.08
  • गंगोलीहाट 1011143,42
  • कपकोट 100011, 44
  • बागेश्वर 118164, 46
  • द्वाराहाट 91269, 42.10
  • सल्ट 97813, 31.10
  • रानीखेत 79099, 40
  • सोमेश्वर 87831, 44.48
  • अल्मोड़ा 87943, 43
  • जागेश्वर 94077, 45.20
  • लोहाघाट 108136, 46.20
  • चम्पावत 98617, 55.10
  • कुल मतदाता, 1339327, मतदान- 604975

2019 में विधानसभा वार मतदान प्रतिशत

  • विधानसभा, मतदान,  प्रतिशत
  • धारचूला, 45546, 51.70
  • डीडीहाट, 42268, 49.02
  • पिथोरागढ़, 56418, 51.17
  • गंगोलीहाट, 50143, 48.78
  • कपकोट, 54159, 54.57
  • बागेश्वर, 66228, 57.15
  • द्वाराहाट, 42052, 46.23
  • सल्ट, 36890, 38.42
  • रानीखेत, 37683, 45.51
  • सोमेश्वर, 43701, 50.53
  • अल्मोड़ा, 49001, 53.98
  • जागेश्वर, 44930, 49.07
  • लोहाघाट, 52933, 50.97
  • चम्पावत, 55972, 60.20
  • कुल मतदाता, 1337803
  • मतदान- 699807, 52.31

This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.