संवाद सहयोगी, रानीखेत : तहसील के राजस्व क्षेत्रों में चोरी की वारदात थमने का नाम नहीं ले रही। बनोलिया, कलौना, सुखोली व मंगचौड़ा में हुई लाखों का माल उड़ाने वाले चोर गिरोह की धरपकड़ तो दूर राजस्व पुलिस सुराग तक नहीं लग सकी है। अब नगर से सटे खनिया गांव में वन विभाग की आवासीय कॉलोनी को निशाना बना दिया गया। चोर दोनों आवासों के ताले तोड़ जेवरात पार कर ले गए। इधर राजस्व क्षेत्र होने के बावजूद हरकत में आई कोतवाली पुलिस ने फिंगर प्रिंट लिए। धरपकड़ भी तेज कर दी है।

इन दिनों जनपद का तहसील क्षेत्र ताबड़तोड़ वारदात से दहल रहा है। चोरी की सिलसिलेवार घटनाओं ने जैसे राजस्व पुलिस की परीक्षा ही ले ली है। अंतरजनपदीय सीमा पर सुखोली, कलौना, बलोनिया व मंगचौड़ा में लाखों की चोरी से हैरान परेशान राजस्व टीम को खुली चुनौती देते हुए चोर गिरोह ने अब नगर से सटे खनिया गांव स्थित वन विभाग की आवासीय कॉलोनी के बंद पड़े दो आवासों के ताले तोड़ डाले।

वन विभाग में संविदा लेखाकार के पर तैनात खैरना गरमपानी निवासी सुनील सुयाल के यहां सामान तितर बितर कर माल नहीं उड़ाया। मगर पड़ोस में ही वन आरक्षी मनीषा जोशी निवासी गांधी आश्रम फतेहपुर हल्द्वानी के आवास से कान के झुमके व पायल पार कर ली गई। वन कर्मी सुनील सुयाल के अनुसार चोर टीवी व अन्य सामान छोड़ गए। अंदेशा जताया कि केवल कैश पर हाथ साफ करने के मकसद से बदमाश घुसे होंगे। एसआइ गौरव जोशी, हेड कांस्टेबल कमल गोस्वामी आदि मय फोर्स पहुंचे। फिंगर प्रिंट लिए गए।

===============

सुखोली की तरह कुटले का इस्तेमाल

खनिया गांव स्थित वन विभाग के आवासों के ताले तोड़ने को सुखोली की तर्ज पर कुटले का इस्तेमाल किया। हालांकि मौके से गैंती व दराती भी बरामद हुई है। इससे अंदाजा लगाया जा रहा कि विकासखंड में हो रही वारदात में एक ही चोर गिरोह हो सकता है। =========

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप