डीके जोशी, अल्मोड़ा

जिले में पतंजलि चिकित्सालय की स्थापना के सालों बाद अब पतंजलि योगपीठ तहसील स्तर पर जल्द ग्रामीण आरोग्य केंद्र खोलने जा रही है। इसके लिए योगपीठ ने कवायद शुरू कर दी है। इन केंद्रों के माध्यम से जहां घर-घर योग की अलख जगेगी, वहीं स्वास्थ्यपरक उत्पाद भी बिकेंगे।

पतंजलि योगपीठ हरिद्वार ने जिले के अल्मोड़ा, जैंती, भनोली, सोमेश्वर, रानीखेत, द्वाराहाट, चौखुटिया, सल्ट, भिकियासैंण, स्याल्दे तहसीलों में ग्रामीण आरोग्य केंद्र खोलने के लिए स्थान की खोज शुरू कर दी है। इन केंद्रों से ग्रामीणों को स्वदेशी सामान की आपूर्ति गांव-गांव की जाएगी। वहीं घर-घर योग की अलख भी जगाई जाएगी। लोगों को प्राणायाम, योगासन के माध्यम से स्वस्थ जीवन जीने की बारीकियां भी बताई जाएंगी। इसके लिए पतंजलि योगपीठ हरिद्वार की ओर से प्रत्येक जिला स्तर पर भारत स्वाभिमान ट्रस्ट, महिला पतंजलि योग समिति, किसान पंचायत, पतंजलि योग समिति तथा युवा भारत की स्थापना पहले ही कर दी गई है। इन पांचों संगठनों को अलग-अलग दायित्व सौंपे गए हैं। इन आरोग्य केंद्रों के माध्यम से ग्रामीणों को स्वास्थ्य विषयक विविध जानकारियां दी जाएगी, जिससे वे स्वस्थ रहकर राष्ट्र के नव निर्माण में सहयोग कर सकें।

---

यह है उद्देश्य

-गांव-गांव, घर-घर योग का महत्व बताना

-ग्रामीणों को स्वदेशी सामान की आपूर्ति

-योग व प्राणायाम के माध्यम से स्वस्थ रहने के गुर सिखाना

-समय-समय पर विविध रचनात्मक कार्याें का संचालन करना

---

वर्जन

पतंजलि योगपीठ हरिद्वार में स्वामी रामदेव व आचार्य बालकृष्ण के निर्देशन में हुए तीन दिनी शिविर में जल्द सभी तहसीलों में ग्रामीण आयोग्य केंद्रों की स्थापना का निर्णय लिया गया। इसी क्रम में जिले के तहसीलों में आरोग्य केंद्रों की स्थापना के लिए स्थान चयन की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। जल्द ही लिए गए निर्णय के अनुसार तहसीलों में इन आरोग्य केंद्रों की स्थापना की जाएगी।

-प्रदीप जोशी, संचालक, पतंजलि चिकित्सालय, अल्मोड़ा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस