संस, द्वाराहाट : विकासखंड स्थित बग्वालीपोखर क्षेत्र के युवक की दिल्ली में निर्मम हत्या से ग्रामीण स्तब्ध हैं। बताया जाता है कि पुरानी रंजिश के चलते चाकू से गोदकर कत्ल किया गया। वह परिवार में इकलौता था। सनसनीखेज वारदात का पता लगते ही उसके पैतृक गांव शकुनी में माहौल गमगीन हो गया है। इस मामले में उच्चस्तरीय जांच व आरोपित के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की वकालत भी तेज हो गई है।

मामला बीती 13 फरवरी का है। बग्वालीपोखर के शकुनी गाव निवासी खीमानंद अधिकारी के 18 वर्षीय पुत्र मुकुल अधिकारी की देर रात्रि करीब 11 बजे चाकू से ताबड़तोड़ प्रहार कर हत्या कर दी गई थी। वारदात में उत्तराखंड मूल के ही इरशाद नाम के व्यक्ति का नाम सामने आया है। बताया जाता है कि इरशाद इससे पूर्व भी चाकू से प्राणघातक हमले के मामले में जेल जा चुका है। यह भी पता लगा है कि वह मुकुल से रंजिश रखता था। आए दिन उसे धमकाता था। कई बार उसने हाथापायी भी की थी। आरोप है कि 13 फरवरी की रात उसने मुकुल का कत्ल कर दिया।

शकुनी गांव के प्रधान पति एवं पूर्व सैनिक लीग बग्वालीपोखर के ब्लाक प्रतिनिधि देवेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि खीमानंद मय परिवार दिल्ली के खानपुर में रहते हैं। वह काफी वर्षो से दिल्ली में ही मोबाइल रिपेयरिंग का काम कर परिवार की गुजरबसर करते हैं। उनकी दो बेटियां हैं और मुकुल इकलौता पुत्र था। बेटे की हत्या से उन पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। मृतक मुकुल के चाचा जयबल्लभ अधिकारी हल्द्वानी में रहते हैं।

गांव में गम व गुस्से का माहौल

द्वाराहाट : मुकुल की रंजिशन हत्या व समुदाय विशेष के आरोपित की लिप्तता का पता लगने के बाद पंचायत प्रतिनिधियों में आक्रोश बढ़ने लगा है। ग्राम प्रधान लता बिष्ट व पूर्व सैनिक लीग के ब्लॉक प्रतिनिधि देवेंद्र सिंह बिष्ट ने घटना को दुखद बताते हुए कहा कि दिल्ली सरकार को प्रवासी उत्तराखंडी युवक के कत्ल की उच्चस्तरीय जांच करानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो इस मामले में उच्चाधिकारियों को पत्र लिख दबाव भी बनाया जाएगा। वहीं गांव में लोग गमगीन हैं।

Edited By: Jagran