जागरण संवाददाता,अल्मोड़ा : एसएसजे परिसर में छात्रसंघ चुनाव की रणभेदी के बीच गुरुवार को नामांकन शुरू हुआ। यहां पर अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व छात्रा उपाध्यक्ष पदों सहित 15 पदों के लिए नमांकन प्रक्रिया सुबह साढ़े 10 बजे से शुरू हुई। दोपहर को एबीवीपी समर्थित अध्यक्ष पद के प्रत्याशी के नामांकन को लेकर परिसर में विवाद व गहमा-गहमी का माहौल बना रहा। जिससे कुछ देर के लिए नामांकन प्रक्रिया बाधित हुई। उधर सोमेश्वर में भी राजकीय महाविद्यालय में प्रत्याशियों ने छात्रों को संबोधित किया। सुबह ढोल-ताशे के बीच मालरोड, चौघानपाटा से लेकर एसएसजे परिसर तक छात्रों ने जूलूस के रूप में अपने-अपने प्रत्याशियों के समर्थन में वोट मांगे। इस दौरान किसी प्रकार की अप्रिय घटना से निपटने के लिए कोतवाली प्रभारी चंद्रमोहन ¨सह पूरे लाव-लश्वर के साथ जहां जमे रहे। वहीं परिसर में एसआई नीरज भाकुनी ने मोर्चा संभाला। नामांकन के लिए जा रहे छात्रों को मुख्य गेट के पास ही रोक दिया गया। केवल प्रस्तावक व प्रत्याशियों को ही नामांकन कक्ष में प्रवेश दिया गया। एबीवीपी के समर्थित प्रत्याशी अध्यक्ष पद पर राजनचंद्र जोशी, एनएसयूआइ के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी संदीप ¨सह तड़ागी, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के लिए पुनीत आर्या व छात्रा उपाध्यक्ष पद के लिए अंजली बिष्ट व बहुज वॉलेंटियर फोर्स की तरफ से अध्यक्ष पद के लिए रोहित टम्टा ने नामांकन कराया। नामांकन में उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष, संकाय प्रतिनिधि, वाणिच्य, संयुक्त सचिव, सांस्कृतिक सचिव सहित 15 पदों के लिए नामांकन प्रक्रिया दो बजे दोपहर तक चली। शुक्रवार को प्रत्याशियों की तरफ से छात्रों की आम सभा को संबोधित किया जाएगा।

..........

नामांकन रद्द होते देख परिसर में पहुंचे भाजपाई

एसएसजे परिसर में एबीवीपी की तरफ से अध्यक्ष पद के प्रत्याशी राजनचंद्र जोशी का नामांकन कराने के लिए बाद विवाद शुरू हो गया। एनएसयूआइ की तरफ से उनकी प्रत्याशिता को चुनौती देते हुए कहा गया यह अवैध नामांकन है। आरोप था कि राजचंद्र जोशी का प्रवेश दो विषयों से एसएसजे परिसर में लिया गया है। जो कि नियमों के अनुसार पूरी तरह अवैध है। दूसरा आरोप था कि इनको परीक्षा में नकल करते समय प्रति¨बधित किया जा चुका है। इधर विवाद की सूचना पर मौके पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष गो¨वद ¨सह पिलख्वाल, कैलाश गुरुरानी, महामंत्री रवि रौतेला के साथ पहुंचे। हंगमा बढ़ते देख कुछ देर के लिए नामांकन पत्रों की जांच का काम रुक गया। प्रशासन व शासन के दवाब के बीच राजनचंद्र जोशी का नामांकन वैद्य करार दिया गया। इधर एनएसयूआई के कार्यकर्ता व प्रत्याशी पूरे मामले में न्याय की उम्मीद लेकर कोर्ट की शरण में जाने की तैयारी कर रहे हैं। शुक्रवार को इसको लेकर याचिका हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। इधर शाम को कोषाध्यक्ष पद पर एक प्रत्याशी के नामांकन वापस लिए जाने के बाद अभिषेक बनौला को कोषाध्यक्ष पद पर निíवरोध निर्वाचित घोषित किया गया। यह प्रत्याशी हैं मैदान में ::: नामांकन के बाद छात्रसंघ चुनाव मैदान में अध्यक्ष पद पर तीन प्रत्याशी, उपाध्यक्ष पद पर पुष्कर ¨सह बिष्ट, विनोद ¨सह, छात्रा उपाध्यक्ष पद पर अंजली बिष्ट, सावित्री देवी, सचिव पद पर अक्षय कुमार टम्टा, शंकर दत्त जोशी, संयुक्त सचिव पद पर चंदन बहुगुणा, सांस्कृतिक सचिव पद पर पुनीत कुमार आर्या, शेखर ¨सह सिवाली, विश्वविद्यालय

प्रतिनिधि पद पर अर्जुन कुमार,ऋषभ की प्रत्याशिता वैद्य करार दी गई। इसके साथ ही आस्था संपादक के पद पर एक, संकय प्रतिनिधि विज्ञान पर दो प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। जबकि संकाय प्रतिनिधि कला, वाणिच्य, ²ष्यकला, शिक्षा संकाय, विधि संकाय पद पर कोई नामांकन नहीं किया गया।

...........

प्रत्याशियों ने किया संबोधन सोमेश्वर महाविद्यालय में प्रत्याशियों ने अपने-अपने विकास के वादों के साथ छात्रों को संबोधित किया। जिसमें अध्यक्ष पद पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सर्मिथत प्रत्याशी मीना, एनएसयूआई के प्रत्याशी ललित आर्या ने अपना संबोधन दिया।

Posted By: Jagran