संस, अल्मोड़ा : रोजी रोटी छिनने पर डेढ़ दशक बाद प्रवासी गांव लौटे तो टूटी छत में ही रात बिताई। बारिश में टपकती छत ने मुसीबत और बढ़ा दी। खैरखबर लेने पहुंचे पुलिस कर्मियों ने प्रवासी की पीड़ा को न केवल समझा बल्कि मानवता की एक और मिसाल पेश कर प्रवासी की छत पर खुद के खर्च से तिरपाल बिछा टपकते पानी को रोका। साथ ही राशन व अन्य जरूरी सामग्री भी मुहैया कराई।

मामला पैली गांव (चौखुटिया तहसील) का है। यहां के भुवन राम पुत्र गोविद राम करीब 15 वर्ष पूर्व रोजी रोटी की तलाश में दिल्ली चला गया था। वर्तमान में उसके पुश्तैनी मकान में कोई नहीं रहता था। कोरोना संक्रमण के दौरान दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करने वाले भुवन राम का रोजगार छिना तो उसने गांव वापस लौटने का निर्णय लिया। जैसे तैसे घर तो पहुंच गया। लेकिन घर की हालत देख उसके रौंगटे खड़े हो गए। छत से बारिश का पानी टपक रहा था तो दीवारें भी जीर्ण शीर्ण हालत में पहुंच गई थी। ग्राम प्रधान की मदद से उसने खीड़ा और मासी चौखुटिया पुलिस चौकी के कर्मचारियों से मदद मांगी। एसएसपी ा पीएन मीणा को जानकारी मिलने पर उन्होंने भी मामले का संज्ञान लिया। मासी और खीड़ा चौकी के प्रभारी फिरोज आलम और सुनील धानिक गांव पहुंचे और भुवन राम के घर को मोटे तिरपाल से ढककर रहने लायक बनाया। पुलिस ने परिवार को राशन और जरूरी सामान भी उपलब्ध कराया। पुलिस की मदद के बाद अब इस परिवार ने राहत की सांस ली है।

---

नियमों का पालन न करने पर 9 के खिलाफ मुकदमा

अल्मोड़ा : पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान नियमों का उल्लंघन करने पर 9 लोगों के खिलाफ पुलिस एक्ट में कार्रवाई की है। जिले के अलग अलग थानों में चल रहे अभियान के तहत मास्क न पहनने और बेवजह बाजार में घूमने पर पुलिस एक्ट में 9 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसके अलावा यातायात के नियमों का पालन न करने पर दस वाहन चालकों के खिलाफ भी मोटर वाहन अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। अधिकारियों ने बताया कि नियमों के पालन के लिए पुलिस का अभियान जारी है।

---

कोरोना वॉरियर्स को किया गया सम्मानित

अल्मोड़ा : लॉकडाउन के दौरान अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन करने पर एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने दो लोगों को सम्मानित किया गया है। एसएसपी मीणा ने बताया कि थाना भतरौंजखान के पुलिस सहायता केंद्र मोहान में नियुक्त कांस्टेबल तारा सिंह और नीता नेगी निवासी ग्राम सुनौला, स्यालीधार ने इस दौरान जरूरमंद लोगों की मदद करने के साथ ही बाहरी राज्यों के फंसे मजदूरों को उनके घर भेजने व दवाएं उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण कार्य किया। जिसके लिए दोनों को कोरोना वॉरियर्स ऑफ द डे के सम्मान से सम्मानित किया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस