संवाद सहयोगी, भाकुड़ा (रानीखेत): अप्रवासी भारतीयों का ग्रामीणों को स्वरोजगार के जरिये आत्मनिर्भर बनाने के लिए किए जा रहे प्रयास रंग लाने लगे हैं। जसपुर उद्यान विकास समिति के तत्वावधान में नींबू प्रोजेक्ट के माध्यम से दस हेक्टेयर बंजर भूमि पर रोपित करने के लिए 17 हजार पौधे तैयार हो गए हैं।

स्याल्दे विकासखंड के जसपुर गांव के विदेश में रहने वाले भारतीयों ने 2018 में बंजर खेती को आबाद करने तथा नींबू प्रजाति के पौधों का रोपण कर लोगों को स्वरोजगार के माध्यम से आत्म निर्भर बनाने की कवायद शुरू की। पहले चरण में दस हेक्टेयर भूमि पर पांच हजार पौधे लगाए गए। लोगों की रुचि को देखते इसे बढ़ाकर अब दस हेक्टेयर भूमि पर 17 हजार पौधे लगा दिए गए हैं।

समिति संयोजक आनंद पंचोली का कहना है कि विदेश में रहने वाले क्षेत्र के अप्रवासी भारतीय बासवा नंद बलोदी, ललित जोशी, उमेश उनियाल आदि ने इसके लिए करीब 15 लाख रुपये उपलब्ध कराए हैं। इसके अलावा मार्गदर्शन के लिए समिति में गाव के ही बड़े बुजुगरें, रिटायर्ड कर्मचारियों व अन्य विभागों से सेवानिवृत्त लोगों को रखा गया है। इनमें मुख्य रूप से खीम सिंह रजवार, कांता बल्लभ दुर्गापाल, घनश्याम जोशी, चंदन पंचोली आदि शामिल हैं। समिति संयोजक का कहना है कि यदि इस प्रोजेक्ट को बढ़ावा देने के लिए उद्यान व कृषि विभाग के अलावा पंतनगर कृषि अनुसंधान केंद्र सहयोग कर निरीक्षण करें तो और बेहतर कार्य किया जा सकता है।

============

पूर्व सीएम हरीश ने किया निरीक्षण, दी शाबासी

बीते दिनों क्षेत्र भ्रमण पर पहुंचे पूर्व सीएम हरीश रावत व पूर्व प्रमुख गंगा पंचोली ने प्रोजेक्ट के तहत हो रहे कायरें व रोपित पौधों का निरीक्षण किया। उन्होंने अप्रवासी भारतीयों के साथ ही स्थानीय लोगों की सराहना भी की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस