अल्मोड़ा, जेएनएन: उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की ओर से संचालित वन आरक्षी पद के लिए रविवार को नगर के 14 केंद्रों में लिखित परीक्षा हुई। जिसमें कुल पंजीकृत 9649 अभ्यर्थियों में से 5583 ने परीक्षा दी। जबकि 4066 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। परीक्षा केंद्रों की सुरक्षा के लिए पुलिस के जवान तैनात किए गए थे।

परीक्षा दो पाली 10 से 12 तथा अपराह्न दो से चार बजे तक हुई। राइंका अल्मोड़ा, एआइसी, शारदा पब्लिक स्कूल, एसएसजे परिसर के अपर, मिडिल व लोअर कैंपस, आर्य कन्या, जीजीआइसी, रैमजे इंटर कॉलेज, महर्षि इंटर कॉलेज, बीरशिवा पब्लिक स्कूल, विवेकानंद बालिका विद्या मंदिर, एडम्स ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज तथा राजकीय इंटर कॉलेज हवालबाग को केंद्र बनाया गया था। परीक्षा को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए हवालबाग में दो तथा अन्य केंद्रों के लिए एक-एक सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई थी। वर्तमान बेरोजगारी के दौर में इस परीक्षा के प्रति अभ्यर्थियों ने खासी रुचि नहीं दिखाई। महज 57.86 फीसद अभ्यर्थियों ने ही इसमें भागीदारी की। नोडल अधिकारी एडीएम बीएल फिरमाल परीक्षा व्यवस्था की मॉनीटरिग करते रहे। उन्होंने बताया कि 9649 में से 4066 अभ्यर्थी गैरहाजिर रहे। बताया कि सभी केंद्रों में परीक्षा शांतिपूर्वक ढंग से हुई।

------------------

उमड़ी भीड़, अभ्यर्थियों की हुई फजीहत

नगर में रविवार को वन आरक्षी तथा पार्वती प्रेमा जगाती सरस्वती विहार नैनीताल की प्रवेश परीक्षा के बाद स्टेशन में काफी भीड़-भाड़ रही। परीक्षा देने के बाद अभ्यर्थियों को अपने घरों को लौटने के लिए काफी इंतजार करना पड़ा। जैसे ही कोई बस स्टेशन आती, उसमें सीट पाने के लिए यात्रियों में होड़ मची रही। कई यात्री महंगा किराया अदा कर टैक्सियों से अपने गंतव्य को रवाना हुए। केमू की ओर से यात्रियों के लिए चार अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की गई थी। वहीं रोडवेज ने कोई अतिरिक्त बस इस मौके पर संचालित नहीं की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस