जासं, बागेश्वर : मजगांव के लिए स्वीकृत सड़क का निर्माण कराने पहुंची लोनिवि को सेरी गांव की महिला-पुरुषों का विरोध भारी पड़ गया है। निर्माण कराने पहुंचे लोनिवि अधिकारियों से ग्रामीणों की तीखी नोकझोंक हो गई। मामला बढ़ा तो एसओ कांडा के अलावा कानूनगो भी मौके पर पहुंच गए। उन्हें भी ग्रामीणों ने बैरंग वापस लौटा दिया।

शुक्रवार को कमेड़ीदेवी-स्याकोट के किलोमीटर एक बैंड से रंगथरा, मजगांव, चौनाला के दो किलोमीटर तक स्वीकृत सड़क का निर्माण कार्य शुरू करने के लिए लोनिवि पहुंची। इसकी भनक सेरी के ग्रामीणों को लगी तो मौके पर धमक उन्होंने निर्माण कार्य रोक दिया। ग्रामीणों का कहना है कि उनके वन पंचायत के बांज के पेड़ कट रहे हैं। इससे भविष्य में पानी के स्त्रोत बंद हो जाएंगे। ग्रामीण निर्माण कार्य किसी भी हालत में नहीं होने देंगे। इसी बीच अपना पक्ष रखने के लिए मजगांव के लोग भी पहुंच गए। उनका कहना है कि हाई कोर्ट के आदेश के बाद सड़क निर्माण कार्य होना था। यहां न्यायालय के आदेश का भी पालन नहीं हो रहा है। इस दौरान विभागीय अधिकारी जिलाधिकारी के आदेश की बात करते रहे, लेकिन सेरी के ग्रामीण कतई नहीं माने। महिलाओं और ग्रामीणों के विरोध के चलते विभाग ने कांडा के एसओ भगवती प्रसाद तथा काननूगो दयाल चंद्र मिश्रा को भी बुला लिया। दोनों अधिकारियों ने ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद विभागीय अधिकारी लौट गए। इस दौरान सेरी के सरपंच आनंद सिंह धामी, जोगा सिंह मेहता, ग्राम प्रधान मजगांव हीरा सिंह रावत, रतन सिंह रावत, नारायण सिंह मेहता, भीम सिंह रावत, नीरज मेहता, महिपाल सिंह रावत आदि मौजूद थे। -वर्जन-

शुक्रवार को विभाग के कर्मचारी सड़क निर्माण के लिए गए। सेरी के ग्रामीणों ने विरोध शुरू कर दिया। उन्हें काफी समझाया, लेकिन वे नहीं माने। अब पुलिस बल ले जाकर सीधे निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। इसके लिए तिथि तय की जाएगी।

-पीएस फत्र्याल, अवर अभियंता लोनिवि, कपकोट।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021