बलिया, जेएनएन। नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से अनुरोध किया है कि वह राष्ट्रपति शासन हटाए जाने और नई सरकार के गठन के बीच के मिनट्स का श्वेतपत्र जारी करें ताकि इस पद की मर्यादा फिर से बहाल हो सके। सपा के जिला प्रवक्ता सुशील पाण्डेय कान्ह जी के माध्यम से जारी बयान में कहा है कि महाराष्ट्र में रात के साये में हुई राष्ट्रपति शासन को हटाए जाने की अनुशंसा, मंजूरी और नई सरकार के गठन को लेकर चौक चौराहों और सोशल मीडिया के बीच जो सवाल उठ रहे हैं। वे राज्यपाल पद की गरिमा के अनुरूप नहीं है। इस पद की गरिमा तार तार न हो, इसलिए सम्पूर्ण घटनाक्रम पर श्वेत पत्र जारी किया जाना आवश्यक है।

कहा कि इसे लेकर जो सवाल उठ रहे हैं, उसमें ये काफी महत्वपूर्ण है कि आपने राष्ट्रपति शासन हटाने की रिपोर्ट किस समय भेजी गई। राष्ट्रपति ने इस रिपोर्ट को किस समय स्वीकार किया। किस समय प्रधानमंत्री को भेजा। इसे लेकर कैबिनेट मीटिंग के निर्देश और सूचना कब जारी हुई। कैबिनेट मीटिंग कब हुई। इसमें कौन कौन शामिल हुए। कैबिनेट की अनुशंसा राष्ट्रपति के पास किस समय पहुंची। इस सम्बंध में राष्ट्रपति ने किस समय निर्णय लिया। इसकी अधिसूचना कब जारी हुई। महाराष्ट्र से राष्ट्रपति शासन हटाने का निर्णय राज्यपाल को कब प्राप्त हुआ। इन सभी सवालों का जवाब जनता पूछ रही है।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस