वाराणसी, जेएनएन। पूर्वांचल में मानसूनी सक्रियता लगातार बनी हुई है इसकी तस्‍दीक बादलों की आवाजाही जाहिर कर रही है। मगर बादलों की आवाजाही से मात्र सूरज की तल्‍खी से ही लोगों को राहत मिल रही है। मौसम का रुख जुलाई माह में काफी मिला जुला साबित हो रहा है। दो दिनों पूर्व बारिश के बाद पूर्वांचल में बादलों की आवाजाही तो बनी हुई है मगर बारिश ने मुंह फेर लिया है। शाम तक गर्मी और उमस की वजह से दिन भर लोग पसीना पसीना होते रहे। 

गुरुवार की सुबह से ही बादलाें की आवाजाही बनी रही मगर धूप खिलते ही लोग पसीना पसीना भी होते रहे। हालांकि मौसम विज्ञानी मानसूनी बारिश जल्‍द होने की संभावना जता रहे हैं। मौसम विज्ञानियों के अनुसार पूर्वांचल में इस सप्‍ताह भर बादलों की आवाजाही बनी रहेगी और परिस्थितियां अनुकूल होने पर मानसूनी बादल बारिश भी कराएंगे। 

 

मौसम विज्ञानियों के अनुसार मानसून सक्रिय है मगर पर्याप्‍त नमी के अभाव में पर्याप्‍त बारिश नहीं हो पा रही है। ऐसे में धूप खिलते ही उमस की स्थिति बन रही है। हालांकि आने वाले दिनों में बंगाल की खाड़ी से पर्याप्‍त नमी मिलने से पूर्वांचल में बारिश भी होगी। गुरुवार को दिन में अधिकतम तापमान 39.6 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्‍य से चार डिग्री अधिक था वहीं न्‍यूनतम पारा 27.6 डिग्री पर रहा जो सामान्‍य दर्ज किया गया। वहीं आर्द्रता अधिकतम 70 और न्‍यूनतम 43 फीसद दर्ज किया गया है। 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma