वाराणसी (जेएनएन)। विख्यात धार्मिक, सांस्कृतिक तथा साहित्यिक नगरी वाराणसी कल देर रात अफवाह के कारण बवाल की भेंट चढ़ गई। वहां सिगरा थाने से महज सौ कदम दूर कल रात एक मस्जिद के समीप विवादित जमीन पर कब्जे की अफवाह ने शहर के सबसे पॉश इलाके में बवाल करा दिया। 

अराजक तत्वों ने पशुओं के लिए बनी मड़ई में आग लगाने के साथ वहां तोडफ़ोड़ कर दी, कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए। फोर्स पर पथराव किया। बीच सड़क हुए बवाल में कई राहगीर फंस गए। कई के सिर फटे। कुछ पुलिस वाले भी घायल हुए हैं। हालात इस कदर बिगड़ गए कि पुलिस को लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस छोडऩे पड़े।

सिगरा में सोठा बासठ मस्जिद है। इससे सटी विवादित जमीन पर क्षेत्रीय निवासी व पेशे से अधिवक्ता महेंद्र सिंह मिंटू पशुओं को बांधते हैं। बरसात के चलते पशुओं के बांधने वाले स्थान पर मिट्टी दलदली होने के कारण कल वहां मिट्टी फेंकवाकर उसे समतल करा रहे थे। इसका दूसरे पक्ष के लोगों ने विरोध किया। इसपर दोनों पक्षों में विवाद होने लगा तभी कुछ लोगों ने पथराव कर दिया जिसमें अधिवक्ता जख्मी हो गए। पुलिस ने पहुंचकर सभी को हटाया। पुलिस को लगा कि मामला शांत हो गया लेकिन अंदर ही अंदर मामला गरमा रहा था।

इलाके में अफवाह फैल गई कि एक पक्ष की ओर से मस्जिद की जमीन पर कब्जा कर निर्माण कराया जा रहा है। रात लगभग नौ बजे सैकड़ों युवक पत्थर व लाठी-डंडा लेकर मस्जिद वाली गली में विवादित जमीन पर पहुंचे। जहां पशुओं को बांधा गया था वहां आग लगाने के बाद मड़ई को तोड़ दिया। फोर्स पहुंची तो पुलिसकर्मियों पर भी पथराव कर दिया गया। फंसे पुलिसकर्मियों ने किसी तरह जान बचाई। उच्चाधिकारियों को सूचना दी। 

उधर उत्पाती युवक आगजनी और पथराव के बाद सिगरा-फातमान मुख्य मार्ग पर आ गए। बीच सड़क पथराव से कई राहगीर और पुलिसवाले निशाना बने। सूचना प्रसारित होते ही पीएसी, पैरा मिलिट्री फोर्स के साथ ही कई थानों की फोर्स पहुंच गई। एसपी सिटी दिनेश सिंह के नेतृत्व में फोर्स ने बवाल कर रहे युवकों को खदेडऩा शुरू किया। डीएम और एसएसपी ने कहा मामले में कठोर कार्रवाई होगी। लोगों की पहचान कराई जा रही है।

Edited By: Dharmendra Pandey